Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पीपीई किट व अन्य उपकरण को जलाने के बजाय गड्ढे में फेंका, महापौर ने कार्रवाई करने दिए निर्देश

राजधानी के फुंडहर और देवपुरी के बीच रिहायशी कालोनी से सटे खाली मैदान पर एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। कोरोना संक्रमितों की जांच करने पहने हुए पीपीई किट, ग्लब्स और फेस शील्ड को खुले में फेंकने का मामला सामने आया है। कोरोना संक्रमण की जांच में उपयोग होने वाले पीपीई किट और अन्य उपकरणों की संख्या एक-दो के बजाय सैकड़ों की संख्या में मिले हैं। पीपीआई किट, ग्लब्स और फेस शील्ड को उचित तरीके से निष्पादन करने के बजाय खुले गड्ढे में फेंककर ऊपर से मिट्टी डाल दी गई है।

कोरोना वायरस से लड़ाई में अगला महीना अहम, विशेषज्ञों की राय आगे बढ़े लॉकडाउन
X

रायपुर. राजधानी के फुंडहर और देवपुरी के बीच रिहायशी कालोनी से सटे खाली मैदान पर एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। कोरोना संक्रमितों की जांच करने पहने हुए पीपीई किट, ग्लब्स और फेस शील्ड को खुले में फेंकने का मामला सामने आया है। कोरोना संक्रमण की जांच में उपयोग होने वाले पीपीई किट और अन्य उपकरणों की संख्या एक-दो के बजाय सैकड़ों की संख्या में मिले हैं। पीपीआई किट, ग्लब्स और फेस शील्ड को उचित तरीके से निष्पादन करने के बजाय खुले गड्ढे में फेंककर ऊपर से मिट्टी डाल दी गई है।

गौरतलब है, उपयोग किए गए जो पीपीई किट, ग्लब्स और फेस शील्ड मिले हैं, उसमें एक विमान कंपनी का स्टिकर लगा है। इससे इस बात की आशंका जताई जा रही है कि एयरपोर्ट पर तैनात विमान कंपनी के कर्मचारियों द्वारा पीपीई किट और अन्य उपकरणों का उपयोग करने के बाद खुली जगह पर अनुचित ढंग से डिस्पोज किया गया होगा। इस बात की भी आशंका जताई जा रही है कि निजी कोरेंटाइन सेंटर के कर्मचारियों ने पीपीई किट और अन्य उपकरणों को उपयोग कर फेंका होगा। फिलहलाल इस बात की जानकारी नहीं मिल पाई है कि फेंके गए पीपीई किट और अन्य उपकरण किस संस्थान का है।

निष्पादन के नियमों का पालन नहीं

कोरोना संक्रमण की महामारी को फैलने से रोकने के लिए उपयोग किए गए पीपीई किट, ग्लब्स और फेस शील्ड को खुले में फेंकने, गड्ढे में दबाने पर पूरी तरह से रोक है। पीपीई किट और कोरेना संक्रमण की जांच से जुड़े सभी उपकरणों को इंसीनरेटर प्लांट में निष्पादन करने का नियम है। इस तरह से पीपीई किट को खुले में फेंकने से महामारी बढ़ने का खतरा है।

रिहायशी क्षेत्र के साथ थोक बाजार

जिस स्थान पर कोरोना जांच के उपयोग में काम आने वाले पीपीई किट और अन्य उपकरण मिला है, उसके आसपास कई रिहायशी कालोनी होने के साथ चंद कदम की दूरी पर थोक सब्जी मंडी है। प्रशासन इस तरह की हरकत पर रोक नहीं लगाती है, तो क्षेत्र में कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता।

बड़ी लापरवाही है

खुले में पीपीई किट और कोरोना संक्रमण से जुड़े अन्य उपकरण फेंकना एक बड़ी लापरवाही है। इस संबंध में हमने थाने में शिकायत दर्ज कराई है। साथ ही दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। निगम अधिकारियों को अपने स्तर पर जांच कर दोषियों के बारे में जानकारी जुटाकर कार्रवाई करने के निर्देश दिया है।

- एजाज ढेबर, महापौर, रायपुर नगर निगम

Next Story