Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दूसरी लहर में जिन मशीनों के लिए पूरा देश था परेशान, इस जिले में ऐसी 85 मशीनें खा रहीं धूल

कोविड के इलाज(treatment of Covid) के लिए 12 अस्पतालों के लिए 85 वेंटिलेटर(ventilators) खरीदे, उसे ऑपरेट करने चिकित्सक नहीं, सेंटरों में मशीनें धूल खा रही। दो-दो ऑक्सीजन प्लांट(oxygen plants) लगाना तय हुआ था, लेकिन अब तक एक ही चालू हुआ है। पढ़िए इस जिले का हाल..

दूसरी लहर में जिन मशीनों के लिए पूरा देश था परेशान, इस जिले में ऐसी 85 मशीनें खा रहीं धूल
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

दुर्ग: कोरोना के नए स्ट्रेन ओमिक्रॉन(OMICRON) को लेकर पूरे देश में दहशत की स्थिति है। जिले में इसका असर देखने को मिल रहा है। इसके चलते तीसरी लहर की आशंका बढ़ गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग ने राज्यों को इलाज के सभी इंतजाम दुरुस्त करने के निर्देश दिए हैं।

स्वास्थ्य विभाग इसे लेकर गंभीर है। लेकिन दुर्ग में विशेषज्ञ डॉक्टरों व ट्रेंड स्टाफ की कमी है। पहली लहर के बाद यहां कोरोना के इलाज(treatment of Covid) के लिए दो सरकारी अस्पताल बने, दूसरी लहर के बाद उनके लिए जरूरी मशीनें खरीदी गईं थीं।

देखरेख के अभाव में मशीनें सेंटरों में धूल खा रही

कोरोना मरीजों के इलाज के लिए बने इस सेंटर में पिछले तीन महीने से एक भी मरीज नहीं है। लेकिन कैजुअल्टी को रनिंग हाल में रखा गया है। इसके लिए स्टाफ की रेगुलर ड्यूटी भी लगाई गई है। मशीनें(ventilators) धूल खा रही हैं।

सबसे बड़े सेंटर कचांदुर का दूसरा प्लांट अब भी शुरू नहीं

कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए जिले का सबसे बड़ा अस्पताल सरकारी मेडिकल कॉलेज, कचांदुर में बना है। यहां एक ही छत के नीचे बड़े व बच्चों के इलाज की सभी सुविधाएं की गई है। इसके लिए दो-दो ऑक्सीजन प्लांट(oxygen plants) लगाना तय हुआ था, लेकिन अब तक एक ही चालू हुआ है। दूसरे बड़े प्लांट का काम अभी अधूरा है।

Next Story