Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आदतन बदमाश ने की चाकूबाजी : बेटी के सामने मोहल्ले के पान ठेले वाले को मारा चाकू... पुलिस थाने की सीमा विवाद में उलझी रही और उसके जान पर बन आई...

हॉस्पिटल से बाहर आने पर वहीं पड़ोस का एक लड़का तेजा मिल गया। उसने पुरानी दुश्मनी को लेकर दिवाकर से लड़ाई कर उसका मोबाइल तोड़ दिया। इस घटना से भड़क कर दिवाकर शिकायत करने रात 11.30 बजे छावनी थाने गया। जहां पुलिस ने सुपेला थाने का मामला बताकर उसे वापिस भेज दिया। फिर क्या हुआ... पढ़िए..

आदतन बदमाश ने की चाकूबाजी : बेटी के सामने मोहल्ले के पान ठेले वाले को मारा चाकू... पुलिस थाने की सीमा विवाद में उलझी रही और उसके जान पर बन आई...
X

भिलाई। छत्तीसगढ़ के भिलाई में पावर हाउस के पास एक आदतन अपराधी ने अपनी बेटी के साथ स्कूटी पर सवार व्यक्ति को चाकू मारकर घायल कर दिया। पुलिस ने आरोपी तेजा के खिलाफ धारा 307 के तहत अपराध दर्ज किया है।

प्रगति नगर भिलाई में रहने वाला दिवाकर राव ने बताया कि, वह कैंप 1 जलेबी चौक में पान दुकान चलाता है। रोज की तरह उसने रात 10 बजे दुकान बंद कर दी थी। उसकी बड़ी बेटी चंद्रा मौर्या चौक के पास एक अस्पताल में भर्ती थी। इसलिए वह अपनी बेटी को गाड़ी में बिठाकर अस्पताल गया। हॉस्पिटल से बाहर आने पर वहीं पड़ोस का एक लड़का तेजा मिल गया। उसने पुरानी दुश्मनी को लेकर दिवाकर से लड़ाई कर उसका मोबाइल तोड़ दिया। इस घटना से भड़क कर दिवाकर शिकायत करने रात 11.30 बजे छावनी थाने गया। जहां पुलिस ने सुपेला थाने का मामला बताकर उसे वापिस भेज दिया। तब दिवाकर अपनी बेटी को गाडी में बैठाकर सुपेला थाने चला गया। जब रात 12 बजे के आसपास जैसे ही बसंत टॉकीज के सामने पहुंचा उतने में ही बदमाश युवक तेजा उसकी गाड़ी के सामने खड़ा हो गया और दिवाकर राव को गाली देने लगा। जब दिवाकर ने गाली देने से मना किया तो तेजा ने चाकू निकालकर हमला कर दिया। जिसमें दिवाकर की पीठ, पेट, दाहिनी जांघ और बाएं हाथ की कलाई में गंभीर चोटे आई है।

परिवार वालों को बेटी ने दी घटना की जानकारी

बेटी ने इस घटना की जानकारी अपने घरवालों को दी। तब घर वाले तुरंत घटनास्थल पर पहुंचे और दिवाकर को उठाकर छावनी थाने पहुंच गए। जहां पुलिस ने तुरंत दिवाकर को इलाज के लिए सुपेला अस्पताल भेज दिया। इसके बाद उसे दुर्ग जिला अस्पताल रिफर किया गया। वहां से दिवाकर को डिस्चार्ज कर दिया गया है। दिवाकर राव ने बताया है कि, जब वह मारपीट व मोबाइल तोड़ने की शिकायत दर्ज कराने छावनी थाने पहुंचा तो पुलिस दो थाने की सीमा बताने लगी। इसके बाद उसकी शिकायत न सुनकर सीधे सुपेला थाने भेज दिया। यदि छावनी पुलिस उसकी शिकायत सुन लेती और आरोपी को पकड़कर बाद में मामले को सुपेला पुलिस के हवाले करती तो ये घटना नहीं घटती।

आरोपी के खिलाफ पहले ही 7-8 मामले दर्ज


तेजा के खिलाफ छावनी थाने में 7-8 मामले दर्ज हैं। तेजा इससे पहले भी दिवाकर पर कई बार हमला कर चुका था। छावनी टीआई ने एक टीम को भेजकर कई जगह छापेमारी की, लेकिन तेजा भाग गया था। इसके बाद कई प्रयासों के बाद तेजा को गिरफ्तार कर लिया गया है।

और पढ़ें
Next Story