Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ग्राम विकास संघर्ष समिति ने छेड़ी शराबबंदी के लिए पंचायत स्तर पर मुहिम

छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति ने शराबबंदी के लिए पंचायत स्तर पर मुहिम छेड़ दी है। ग्राम पंचायतों में शराबबंदी को लेकर विशेष ग्राम सभा की बैठक कराने छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति के पदाधिकारी लगातार आवेदन दे रहे हैं।

ग्राम विकास संघर्ष समिति ने छेड़ी शराबबंदी के लिए पंचायत स्तर पर मुहिम
X

रायपुर. छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति ने शराबबंदी के लिए पंचायत स्तर पर मुहिम छेड़ दी है। ग्राम पंचायतों में शराबबंदी को लेकर विशेष ग्राम सभा की बैठक कराने छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति के पदाधिकारी लगातार आवेदन दे रहे हैं।

छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि शराब की वजह से महासमुंद जिला के ग्राम बेमचा में एक ही परिवार से पांच बेटियों और एक माँ की रेलवें ट्रैक पर सामुहिक आत्महत्या करना तथा रेल पटरी पर कट मर जाना एक सभ्य समाज के लिए बहुत बड़ी कलंक हैं और हृदय विदारक घटना है। आज छत्तीसगढ़ सरकार को ऐसी घटनाओं पर रोक लगाने के लिए अविलंब शराबबन्दी कानून लागू करना चाहिए। इस हृदय विदारक झकझोर देने वाली घटना से हम सबको सबक लेने की जरूरत है। ताकि बेमचा (महासमुंद) जैसी और दूसरी घटना की पुनरावृत्ति ना हो। इसलिए छत्तीसगढ़ के गाँवो में पूर्ण शराब बंदी करने तथा अवैध शराब बिक्री पूर्ण रूप से बंद करने हेतु छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति द्वारा छत्तीसगढ़ प्रत्येक ग्राम पंचायतों में विशेष ग्राम सभा की बैठक करवाने आवेदन दिया जा रहा है।

छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति के मुख्यालय ग्राम पंचायत बंगोली और सेरीखेड़ी से शराबबंदी व अवैध शराब बिक्री पर पूर्ण पाबंदी लगाने विशेष ग्रामसभा बैठक की आयोजन कर सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित करने के लिए आवेदन ग्राम पंचायत के सरपंच, सचिव को देकर प्रारंभ किया गया। ग्राम सेरीखेड़ी सरपंच श्रीमती नीतू चन्दन और सरपंच प्रतिनिधि चन्दन साहू तथा ग्राम बंगोली पंचायत सचिव डिकेश्वरी वर्मा ने सहमति जताई और विशेष ग्रामसभा की खुली बैठक में चर्चा कर सर्वसम्मति से प्रस्ताव करने आश्वासन दिया गया।

कार्यक्रम की शुभारंभ करते हुए छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति के अध्यक्ष हुलास राम साहू ने कहा कि शराबबंदी के लिए हमारा पहला चरण में त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यवस्था से चुने हुए स्थानीय प्रतिनिधियों को शामिल करते हुए एक आवेदन शराबबंदी व अवैध शराब बिक्री पर पूर्ण पाबंदी हेतु विशेष ग्रामसभा की बैठक आहूत करने दी जा रही है। जहां तक हो सके छत्तीसगढ़ के हर के ग्राम पंचायत में पहुंच कर आवेदन प्रस्तुत करेंगे। और द्वितीय चरण में हम अपने क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों के पास जायेंगे कि वे अपने अपने क्षेत्र के पंचायतों में ग्राम सभा कराने ग्राम पंचायत समिति को प्रेरित करें। तीसरे चरण में हम अपने क्षेत्रीय विधायक ,सांसद को आवेदन सौंपेंगे। चौथे चरण में गाँव-गाँव मे ग्राम स्वराज सभा का आयोजन कर लोगों से चर्चा कर पूर्ण शराबबंदी के लिए प्रस्ताव पारित करंगे। पांचवें चरण में विभागीय मंत्री और मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौपेंगे। इसके बाद भी ठोस कदम नहीं उठाए जाने पर छठवें चरण में उग्र आंदोलन करने बाध्य होंगे।

छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति के सचिव धर्मेन्द्र बैरागी ने आम जनता से अपील करते हुए कहा कि - छत्तीसगढ़ में पूर्ण रूप से अवैध शराब बिक्री और शराबबंदी हो अगर आप चाहते हैं। तो आप सभी अपने-अपने जिम्मेदारी निभाये और अपने-अपने ग्राम पंचायत समिति को आवेदन दें। साथ ही अपने दोस्त, सगे संबंधी को भी आवेदन देने प्रेरित करें। पंचायत को आवेदन देने के लिए- छत्तीसगढ़ ग्राम विकास संघर्ष समिति के संगठन मंत्री प्रियंकर सेन, उमेश लहरे, गजेंद्र यादव, अनिल लहरे उपस्थित थे।



Next Story