Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पैसा डबल करने का झांसा देकर 35 लाख की ठगी, भाजपा नेता समेत 4 पुलिस की हिरासत में

ग्रामीण इलाकों में करीब 10 साल के भीतर चिटफंड कंपनी के जरिए आरोपियों ने लोगों से ऐंठ ली है बड़ी रकम। पढ़िए पूरी खबर-

पैसा डबल करने का झांसा देकर 35 लाख की ठगी, भाजपा नेता समेत 4 पुलिस की हिरासत में
X

राजनादगांव। जिले के खैरागढ़ इलाके में दर्जनों ग्रामीणों से पैसा डबल करने का झांसा देकर लाखों रुपए की ठगी करने के मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए खैरागढ़ भाजपा मंडल अध्यक्ष कमलेश कोठले समेत चार लोगों को हिरासत में लिया है। वहीं इस पूरे मामले का मास्टर माइंड तरूण साहू समेत तीन आरोपी फरार हैं। आरोप है कि आरोपियों के द्वारा रकम दोगुना करने का झांसा देकर लोगो से 35 लाख रूपये की ठगी गई है।

जानकारी के मुताबिक खैरागढ़ भाजपा मंडल अध्यक्ष कमलेश कोठले और उसके साथी तरूण साहू (अर्जुन्दा बालोद), राजकुमार साहू (खैरागढ़), चम्मनदास साहू (अर्जुन्दा बालोद), सत्यपाल वर्मा (चीचा दुर्ग), रंजीत सोनकर (बालाघाट), राजेन्द्र स्वान्सी (रांची) ने सर्वोदय मल्टीट्रेड लिमिटेड कंपनी के अधीन माईक्रो इन्वेसमेंट का डायरेक्टर बनकर खैरागढ़ क्षेत्र में लोगों से मासिक, छैमासी, सालाना, पांच वर्ष तथा 15 वर्ष के लिए अलग-अलग ब्याज दरों पर रकम जमा कराया। लोगों को निवेश कराने के दौरान आरोपियों ने दोगुना तथा 8 गुना रकम वापस मिलने का झांसा दिया।

इस दौरान खैरागढ़ में संचालित ब्रांच में आसपास के दर्जनों ग्रामीणों ने लाखों रुपए जमा कराए। इन्हीं निवेशकों में खिलावन चंद्राकर द्वारा 2011 से लगातार 2019 तक साढ़े 7 लाख रुपए सपत्नीक जमा कराया। वहीं एक और हितग्राही रामप्रसाद पटेल ने भी 9 लाख रुपए कंपनी में निवेश किए। इसी तरह अलग-अलग गांव के लोगों ने भी कंपनी करीब 35 लाख रुपए का निवेश किया।

इसके ठीक बाद कंपनी एकाएक अपना कारोबार छोडक़र रफूचक्कर हो गई, तब से निवेशक रकम के लिए ब्रांच का चक्कर लगाते रहे। बताया जा रहा है कि भाजपा मंडल अध्यक्ष कमलेश कोठले ने अपने राजनीतिक प्रभाव के जरिये लोगों को निवेश कराने के लिए प्रोत्साहित किया। वहीं दीगर जिलों के कथित डायरेक्टरों को कोठले का भरपूर साथ मिला। अब पूरा मामला पुलिस तक पहुंच गया है।

जानकारी के मुताबिक खैरागढ़ के ग्रामीण इलाकों में करीब 10 साल के भीतर चिटफंड कंपनी के जरिए आरोपियों ने बड़ी रकम लोगों से ऐंठ ली है। रकम वापस करने की मियाद पूरी होने से पहले ही कंपनी ने अपना बोरिया-बिस्तर समेट लिया। लाखों रुपए की चपत लगने के बाद लोगों ने पुलिस में मामले की शिकायत की।

इस संबंध में खैरागढ़ पुलिस का कहना है कि मंडल अध्यक्ष कोठले समेत 4 को फिलहाल हिरासत में लिया गया। तीन अन्य आरोपी की खोजबीन की जा रही है। पूरे मामले का पर्दाफाश होने के बाद पुलिस डायरेक्टरों की पृष्ठभूमि को लेकर जानकारी जुटा रही है।

Next Story