Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

झीरम घाटी हमले में मारे गए नेताओं के परिजनों ने की SIT जांच की मांग, बोले- NIA की जांच पर भरोसा नहीं

झीरम हमले में मारे गए नेताओं के परिजन जितेंद्र मुदलियार, तूलिका कर्मा, मोहम्मद साहिद, हर्षित शर्मा, दौलत रोहड़ा ने झीरम घाटी नरसंहार मामले पर प्रेस कांफ्रेंस ली. प्रेस कांफ्रेंस में जितेंद्र मुदलियार ने कहा कि कांग्रेस के यात्रा से पहले नक्सली घटना हुई थी. राजनीतिक नरसंहार नक्सलियों के माध्यम से कराया गया.

झीरम घाटी हमले में मारे गए नेताओं के परिजनों ने की SIT जांच की मांग, बोले- NIA की जांच पर भरोसा नहीं
X

रायपुर. झीरम हमले में मारे गए नेताओं के परिजन जितेंद्र मुदलियार, तूलिका कर्मा, मोहम्मद साहिद, हर्षित शर्मा, दौलत रोहड़ा ने झीरम घाटी नरसंहार मामले पर प्रेस कांफ्रेंस ली. प्रेस कांफ्रेंस में जितेंद्र मुदलियार ने कहा कि कांग्रेस के यात्रा से पहले नक्सली घटना हुई थी. राजनीतिक नरसंहार नक्सलियों के माध्यम से कराया गया.

नंद कुमार पटेल, विद्याचरण शुक्ल, विधानसभा अध्यक्ष महेंद्र कर्मा, समेत तमाम कांग्रेस के नेताओ की हत्या कर दी गई. इसकी जांच NIA को सौंपी गई थी. NIA ठीक ने ठीक से जांच नहीं की. कोई बड़ा राजनीतिक षड्यंत्र था जिसमें लीपापोती हुई. NIA ने इस तरह से जांच की है जैसे ये साधारण नक्सली घटना है. जानबूझकर सुरक्षा बलों को कम किया गया. केंद्र ने सीबीआई जांच से इनकार कर दिया लेकिन प्रदेश की जनता को नहीं बताया कि केंद्र ने इनकार किया. NIAने अपनी जांच शुरू होने की घोषणा की थी लेकिन NIA ने सिर्फ खानापूर्ति की. NIAने गिरफ्तार किए लोगों से पूछताछ नहीं की. NIA राजनीतिक लोगों को बचाने पर जुटी हुई है.

जब यात्रा निकली तो सुरक्षा व्यवस्था क्यों नहीं की गई जांच का विषय है. उस समय महेंद्र कर्मा Z प्लस सुरक्षा की श्रेणी में आते थे फिर भी क्यों सुरक्षा नहीं बरती गई. जिस दिन ये घटना घटी हमने कहा था ये आपराधिक राजनीति षड्यंत्र है जिसकी सही जांच चाहते हैं. राज्य सरकार चाहती है कि इस मामले में एसआईटी से जांच हो.

Next Story