Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इंजीनियरिंग छात्रों को केवल वर्तमान में प्रमोशन, अंतिम सेमेस्टर तक क्लियर करनी होंगी रद्द परीक्षाएं

बैकलॉक वाले छात्रों को भी नियमों में विशेष छूट

इंजीनियरिंग छात्रों को केवल वर्तमान में प्रमोशन, अंतिम सेमेस्टर तक क्लियर करनी होंगी रद्द परीक्षाएं
X

रायपुर. स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय ने अंतिम वर्ष के छात्रों को छोड़कर अन्य सेमेस्टर के छात्राें को अगली कक्षा में प्रमोट करने का फैसला लिया है। ये परीक्षाएं वर्तमान में तो रद्द कर दी गई हैं, लेकिन छात्रों को इन रद्द परीक्षाओं को निकट भविष्य में दिलाना होगा। इसके लिए सीएसवीटीयू अपने छात्रों को अंतिम सेमेस्टर तक का वक्त देगी। छात्र अपनी सुविधानुसार यह तय कर सकेंगे कि उन्हें रद्द परीक्षाएं कब दिलानी हैं।

जब तक छात्र इन परीक्षाओं में उत्तीर्ण नहीं हो जाते, तब तक उन्हें उत्तीर्ण घोषित नहीं किया जाएगा और परिणाम जारी नहीं किए जाएंगे। गौरतलब है कि कार्यपरिषद की बैठक में लिए गए फैसले के बाद सीएसवीटीयू ने छात्रों को प्रमोट करने का फैसला किया था। बुधवार को इस संदर्भ में आदेश जारी किए गए, लेकिन सीएसवीटीयू ने स्पष्ट कर दिया है कि परिस्थितियों को देखते हुए छात्रों को केवल वर्तमान में प्रमोट किया गया है। जिस सेमेस्टर में छात्रों को प्रमोशन मिला है, उस सेमेस्टर की परीक्षाएं छात्रों को आगे दिलानी होगी। छात्रों को इसके लिए अंतिम वर्ष तक का समय दिया जाएगा। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए विवि जल्द ही कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए परीक्षा आयोजित कराने की तैयारी में है।

एन-4 नियमों में भी छूट

एन-4 नियम में भी छात्रों को छूट दी गई है। इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम चार वर्षों का होता है। एन-4 नियम के अनुसार, जब तक कोई छात्र तीन वर्षों की सभी परीक्षाएं क्लीयर नहीं कर लेता, तब तक उसे चौथे वर्ष में प्रवेश नहीं दिया जाता है, लेकिन इस वर्ष ऐसा नहीं होगा। तीसरे वर्ष के ऐसे छात्र जिन्होंने अपनी पिछली परीक्षाएं उत्तीर्ण नहीं की हैं, उन्हें भी चौथे वर्ष में प्रवेश दे दिया जाएगा। इन छात्रों के परीक्षा परिणाम तब तक रोके जाएंगे, जब तक वे बैकलॉग परीक्षाएं उत्तीर्ण कर अहर्ता पूरी नहीं कर लेते। विवि ने पहले ही यह स्पष्ट कर दिया था कि प्रोफेशनल कोर्स होेने के कारण छात्रों को जनरल प्रमोशन नहीं दिया जा सकता। कोरोना संक्रमण के कारण परीक्षाएं आयोजित करना भी छात्रों के लिए खतरा था। ऐसे में विवि ने मध्य मार्ग अपनाते हुए अस्थायी प्रमोशन दिया है।

अगले सेमेस्टर में प्रवेश के लिए पात्रता संबंधित नियम सशर्त शिथिल किए गए हैं। अगले सेमेस्टर में प्रवेश अस्थायी है।

- केके वर्मा, कुलसचिव सीएसवीटीयू

Next Story