Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भूकंप से थर्राया चरचा कालरी : रात 1 बजे कांपी धरती- कोल माइंस में मची हलचल से तीन श्रमिक घायल, इनमें दो की हालत गंभीर

जिला मुख्यालय समेत आसपास के क्षेत्रों में भूकंप के झटके महसूस किए गए। इन झटकों की वजह से कोल माइंस में गोफ गिर गया। इस दौरान भागते समय दो मजदूर घायल हो गए। कहा आया भूकंप... पढ़िए पूरी खबर...

भूकंप से थर्राया चरचा कालरी : रात 1 बजे कांपी धरती- कोल माइंस में मची हलचल से तीन श्रमिक घायल, इनमें दो की हालत गंभीर
X

कोरिया। छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले में कल रात करीब 1 बजे कई जगहों पर भूकंप के झटके महसूस किए गए। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 4 प्लस मापी गई है। भूकंप की वजह से एसईसीएल चरचा अंडर ग्राउंड माइंस के अंदर गोफ गिरने से 3 मजदूर घायल हो गए हैं। इसमें दो की हालत गंभीर बताई जा रही है। वहीं घायलों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

माइंस में एक दर्जन से अधिक श्रमिक कर रहे थे काम

मिली जानकारी के अनुसार गुरुवार-शुक्रवार की दरमियानी रात लगभग 1 बजे जिला मुख्यालय बैकुंठपुर समेत आसपास के क्षेत्रों में भूकंप के झटके महसूस किए गए। इन झटकों की वजह से चरचा अंडर ग्राउंड कोल माइंस में बड़ा हादसा हो गया। भूकंप के चंद मिनटों के अंतराल में चरचा ईस्ट खदान के 101 नंबर पैनल में एयर ब्लास्ट की घटना हुई। इससे हवा में तिनके की तरह 3 श्रमिक उड़ गए। इससे तीनों कर्मचारी घायल हो गए। घायलों को उपचार के लिए बिलासपुर स्थित अपोलो हॉस्पिटल में रिफर किया गया है। इसमें दो की स्थिति गंभीर है। बताया जा रहा है कि जिस दौरान भूकंप के झटके महसूस किए गए, उस समय माइंस में एक दर्जन से अधिक मजदूर काम कर रहे थे।

हॉस्पिटल में डॉक्टरों और दवाइयों की कमी, नहीं हो सका मरीजों का इलाज

उल्लेखनीय है कि इतना बडा खदान होने के बावजूद रीजनल हॉस्पिटल चरचा में डॉक्टरों और दवाइयों की कमी के कारण मरीजों को गंभीर अवस्था में बिलासपुर रिफर किया गया है। बता दें कि कुछ दिन पहले ही हॉस्पिटल में जांच टीम आई थी। डॉक्टरों ने उन्हें दवाइयों से अवगत कराया था। लेकिन आज तक रीजनल हॉस्पिटल चरचा में दवा उपलब्ध नहीं हो पाई। इसके कारण मरीजों को तुरंत बिलासपुर रिफर कर दिया जाता है। देखिए वीडियो-


और पढ़ें
Next Story