Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

11.85 लाख केस में डायल 112 की सीधी मदद, हर दिन 7500 कॉल

प्रदेश में इमरजेंसी के दौरान लोगों को मदद के लिए बनाए गए डायल 112 के सिस्टम की केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तारीफ की है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पुण्य ललिता श्रीवास्तव ने डायल 112 के क्विक रिस्पांस कार्य को देखते हुए कहा, प्रदेश में इस तरह की व्यवस्था पर गर्व है।

11.85 लाख केस में डायल 112 की सीधी मदद, हर दिन 7500 कॉल
X

रायपुर. प्रदेश में इमरजेंसी के दौरान लोगों को मदद के लिए बनाए गए डायल 112 के सिस्टम की केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तारीफ की है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पुण्य ललिता श्रीवास्तव ने डायल 112 के क्विक रिस्पांस कार्य को देखते हुए कहा, प्रदेश में इस तरह की व्यवस्था पर गर्व है।

वरिष्ठ पुलिस अफसर एडीजी आरके विज के नेतृत्व में यह सेवा 4 सितंबर 2018 से रायपुर में प्रारंभ की गई थी। इसके बाद से निरंतर इसका लाभ आम जनता को मिल रहा है। विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संयुक्त सचिव ने डायल 112 के कार्यों की समीक्षा की। वरिष्ठ पुलिस अफसर आरके विज ने बताया, डायल 112 के शुभारंभ होने के बाद से इमरजेंसी क्राइम, हेल्थ और फायर से जुड़े मामलों में मदद के लिए रिकार्ड कॉल आए हैं। अब तक 11 लाख 85 प्रकरणों में सूचनाएं मिलने के बाद पुलिस ने क्विक रिस्पांस देते हुए लोगों को मदद पहुंचाई। कॉल सेंटर में प्रतिदिन औसत 7500 कॉल आ रहे हैं, जिसमें तुरंत मदद के लिए डायल 112 की टीमें हाजिर हैं।

आत्महत्या की कोशिश में 6595 प्रकरण

डायल 112 में अब तक आत्महत्या की कोशिश करने के मामले में 6595 प्रकरण कॉल के जरिए सामने आए हैं। इस पर तुरंत रिस्पांस देते हुए पीड़ित व्यक्ति को बचाया जा सका। सड़क दुर्घटना में घायल होने वाले लगभग 1 लाख 20 हजार व्यक्तियों की जीवनरक्षा के लिए डायल 112 ने कार्य किया। बाढ़ पीड़ित क्षेत्रों में 42 मामले ऐसे थे, जहां जरूरतमंदों के लिए आपातकाल के समय में सहायता पहुंचाई।

Next Story
Top