Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

देवव्रत बोले : अमित में आ गई नकारात्मकता, इसलिए छोड़ रहे पार्टी, अमित बोले- पहले 2 से 3 तो हो जाएं

विधानसभा चुनाव में पांच विधायकों के साथ अस्तित्व में आई छत्तीसगढ़ जनता पार्टी जे में महज ढाई साल के एक बड़े बिखराव के हालात निर्मित हो गए हैं। पार्टी के दो विधायकों द्वारा विधानसभा में विखंडन का प्रस्ताव लाए जाने का ऐलान किए जाने के बाद पार्टी में भूचाल आ गया है। हरिभूमि ने आज जब विधायक देवव्रत सिंह से इस विषय पर चर्चा की तो उन्होंने साफ तौर पर कहा कि पार्टी की नींव रखने वाले पूर्व मुख्यमंत्री स्व.अजीत जाेगी की विचारधारा से जोगी कांग्रेस भटक चुकी है। वहीं पार्टी के अध्यक्ष अमित जोगी ने दोनों विधायकों को नसीहत दी है कि नए दल बनाने के लिए दोनों विधायकों को विस से सदस्यता छोड़नी पड़ सकती है। पहले वे दो से तीन हो जाएं।

देवव्रत बोले : अमित में आ गई नकारात्मकता, इसलिए छोड़ रहे पार्टी, अमित बोले- पहले 2 से 3 तो हो जाएं
X

सचिन अग्रहरि. राजनांदगांव. विधानसभा चुनाव में पांच विधायकों के साथ अस्तित्व में आई छत्तीसगढ़ जनता पार्टी जे में महज ढाई साल के एक बड़े बिखराव के हालात निर्मित हो गए हैं। पार्टी के दो विधायकों द्वारा विधानसभा में विखंडन का प्रस्ताव लाए जाने का ऐलान किए जाने के बाद पार्टी में भूचाल आ गया है। हरिभूमि ने आज जब विधायक देवव्रत सिंह से इस विषय पर चर्चा की तो उन्होंने साफ तौर पर कहा कि पार्टी की नींव रखने वाले पूर्व मुख्यमंत्री स्व.अजीत जाेगी की विचारधारा से जोगी कांग्रेस भटक चुकी है। वहीं पार्टी के अध्यक्ष अमित जोगी ने दोनों विधायकों को नसीहत दी है कि नए दल बनाने के लिए दोनों विधायकों को विस से सदस्यता छोड़नी पड़ सकती है। पहले वे दो से तीन हो जाएं।

जोगी कांग्रेस भाजपा समर्पित दल के तौर पर काम कर रही

छत्तीसगढ़ जनता पार्टी जे के बागी विधायक देवव्रत सिंह ने आज यहां साफ तौर पर कहा कि पार्टी के अध्यक्ष अमित जोगी में नकारात्मकता आ गयी है, इसलिए वे पार्टी छोड़कर नया दल बनाने की तैयारी में जुट गए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि राज्य में जोगी कांग्रेस अब भाजपा समर्थित दल के तौर पर काम कर रही है। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि पिछले कुछ सालों से जोगी कांग्रेस में कुछ भी अच्छा नहीं चल रहा है। उन्होंने कहा कि जब से अमित जोगी को पार्टी की बागडोर सौंपी गई है, तभी से पार्टी में लगातार बिखराव आ रहा है। श्री सिंह ने कहा कि अमित जोगी में नकारात्मकता आ गयी है। वे पार्टी के सिद्धांत और विचारधारा से हटकर काम कर रहे हैं। उन्होंने पिछले लोकसभा चुनाव में मरवाही सीट पर भाजपा को समर्थन देकर यह सिद्ध कर दिया है कि वे भाजपा समर्थित दल के रूप में काम करना पसंद करते हैं। पूर्व मुख्यमंत्री स्व. अजीत जोगी ने विधानसभा सत्र में प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की तारीफ की थी, लेकिन उनके पुत्र अमित जोगी को इस विचारधारा से कोई मतलब नहीं है। वे भाजपा के इशारे पर काम कर रहे हैं। विधायक रेणु जोगी के संबंध में विधायक देवव्रत का कहना है कि वे उनका काफी सम्मान करते हैं, लेकिन पार्टी की बागडोर अमित जोगी के हाथों में है।

हमें पहले से कर दिया दूर

विधायक देवव्रत सिंह ने कहा कि जोगी कांग्रेस की कमान संभालने के बाद से ही अमित जोगी ने भाजपा के इशारे पर उन्हें और विधायक प्रमोद शर्मा को पार्टी की राष्ट्रीय और राज्य की कार्यकारिणी से दूर कर दिया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ स्वाभिमान का संरक्षण और संवर्धन किया है। वे नया छत्तीसगढ़ का एक चेहरा है।

पारस पासवान बनने से पहले तीन तो हो जाएं

जोगी कांग्रेस के दाे विधायकों द्वारा नया दल बनाए जाने की तैयारी किए जाने को लेकर छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस जे के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी का कहना है कि पहले वे लोग दो से तीन हो जाए, फिर पारस पासवान बनने की कोशिश करें। श्री जोगी ने यह भी कहा कि यदि वे तीन नहीं हो पाएंगे तो नया दल बनाने के लिए दोनों विधायकों को विधानसभा से अपनी सदस्यता खत्म करनी होगी।

जोगी कांग्रेस के विधायक देवव्रत सिंह और प्रमोद शर्मा द्वारा आगामी विधानसभा सत्र में विखंडन का प्रस्ताव लाए जाने की तैयारियों के बीच जोगी कांग्रेस के अध्यक्ष अमित जोगी का कहना है कि विधानसभा में किस आधार पर वे विखंडन का प्रस्ताव ला सकते हैं। लोकतंत्र में दो तिहाई बहुमत के आधार पर ही विखंडन की स्थिति लाई जा सकती है। उन्होंने दोनों विधायकों को साफ तौर पर कहा कि यदि उन्हें ऐसा कोई प्रस्ताव लाना भी है तो वे पहले दो से तीन हो जाए। इसके बाद ही पारस पासवान बनकर राजनीति करें। उन्होंने कहा कि यदि ऐसा कोई प्रस्ताव लाया जाता है तो दल बदल कानून के तहत दोनों विधायकों की सदस्यता खत्म की जा सकती है।

Next Story