Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हादसे में मृत आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के परिजनों को मुआवजे की मांग, आंदोलन से लौटते समय गई थी जान

हादसे में मृत आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के परिजनों को मुआवजे की मांग, आंदोलन से लौटते समय गई थी जान
X

पद्मावती साहू (प्रांताध्यक्ष) व भुनेश्वरी तिवारी उप प्रांताध्यक्ष, छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका कल्याण संघ

बीजापुर में आज तड़के सुबह हुई दुर्घटना में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं (Anganwadi Workers) की मौत की खबर ने पूरे छत्तीसगढ़ (Chattisgarh) की आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को झकझोर कर रख दिया है। हादसे में मृत आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं राजधानी से आंदोलन (Protest) करके लौट रही थीं। छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका कल्याण संघ ने उनके परिजनों को मुआवजा (Compensation) देने की मांग की है। पढ़िए पूरी खबर-

रायपुर। हादसे में मृत बीजापुर (Bijapur) की आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के परिजनों को मुआवजा देने की मांग छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कल्याण संघ ने की है। वे कार्यकर्ताएं अपनी मांगों को लेकर जारी हड़ताल (Strike) में शामिल होने रायपुर आई थीं, लौटते समय हुई दुर्घटना में उनकी जानें चली गईं।

छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका कल्याण संघ की प्रांताध्यक्ष पद्मावती साहू (Padmavati Sahu) ने कहा है कि वे आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बहनें सभी के हितों की मांग करने यहां पहुंची और आंदोलन भी किया, लेकिन दुर्भाग्यवश हादसे (Accident) में उनकी जानें चली गईं। एक प्रकार से सभी के हितों की रक्षा की कोशिश करती हुईं वे शहीद हो गईं, इसलिए उन्हें 10-10 लाख रूपए मुआवजे दिए जाएं। प्रांताध्यक्ष साहू ने कहा कि वे दोनों कार्यकर्ता बहनें हालांकि अन्य आंगनबाड़ी संगठन से थीं, लेकिन आखिर थीं तो वे आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ही। इसलिए छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका कल्याण संघ इस दुखद क्षण में अपनी सहानुभूति और श्रद्धांजलि (Sympathy and tribute) व्यक्त करता है। छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका कल्याण संघ की रायपुर (Raipur) जिला अध्यक्ष व उप प्रांताध्यक्ष भुनेश्वरी तिवारी (Bhuneshwari Tiwari) ने भी मांग की है कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका बहनें अपनी मांगों को लेकर शहादत भी दे रही हैं। ऐसे में सरकार को मांगों को लेकर गंभीर होना चाहिए।

गौरतलब है कि गत 10 दिसंबर से आंगनबाड़ीकर्मियों के कई संगठन एकजुट होकर नियमितिकरण (Permanent) समेत अपनी कुछ मांगों को लेकर आंदोलनरत हैं। कई जिलों की कार्यकर्ताएं उसमें शामिल हैं। बस्तर (Bastar) से भी बड़ी संख्या आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं और सहायिकाएं (Anganwadi Workers and Helpers) भी आई हुई हैं। बीजापुर की जिन आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की हादसे में मौत की खबर आई है, वे रायपुर से लौट रही थीं। तभी हादसा हुआ और उनकी जानें चली गईं। कुछ के घायल (Injured) होने की भी खबर है।

Next Story