Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शुल्क लगते ही क्रूज और जेट बोट खाली, बोहनी तक नहीं

बूढ़ातालाब में पर्यटन प्रेमियों के लिए 13 नवंबर से बोटिंग शुल्क लागू कर दिया गया है। शुल्क निर्धारण के बाद क्रूज, जेट, स्पीड बोट, पोनटून, स्कूटर बोट की सवारी करने लोगों का मोह अभी से भंग होने लगा है।शुक्रवार को हरिभूमि की टीम शुल्क निर्धारण के बाद बूढ़ातालाब में बोटिंग का आनंद लेने पहुंचने वाले लाेगों की तादाद की पड़ताल करने पहुंची तो नजारा चौंकाने वाला दिखा।

शुल्क लगते ही क्रूज और जेट बोट खाली, बोहनी तक नहीं
X

रायपुर. बूढ़ातालाब में पर्यटन प्रेमियों के लिए 13 नवंबर से बोटिंग शुल्क लागू कर दिया गया है। शुल्क निर्धारण के बाद क्रूज, जेट, स्पीड बोट, पोनटून, स्कूटर बोट की सवारी करने लोगों का मोह अभी से भंग होने लगा है।शुक्रवार को हरिभूमि की टीम शुल्क निर्धारण के बाद बूढ़ातालाब में बोटिंग का आनंद लेने पहुंचने वाले लाेगों की तादाद की पड़ताल करने पहुंची तो नजारा चौंकाने वाला दिखा।

शाम 6 बजे तक महज 10 लोगों ही पोनटून बोट से बोटिंग के लिए टिकट कटाए। बाकी के क्रूज, जेट, स्पीड बोट, स्कूटर कोट की बोहनी तक नहीं हो सकी, जबकि तालाब घाट के किनारे सैकड़ाें की संख्या में पर्यटन प्रेमी परिवार व दोस्तों के साथ भ्रमण करने पहुंचे थे। बोटिंग टिकट काउंटर पर बैठे नगर निगम के कर्मचारियों ने बताया कि शुल्क निर्धारण के बाद से बोटिंग करने वाले लोगों की संख्या में कमी हाे गई है।

वहीं एक सप्ताह तक मुफ्त बोटिंग के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा था। अब ज्यादातर लोग दूर से बोट को देखकर ही वापस लौट जा रहे हैं। शुल्क निर्धारण के बाद इन 20 दिनाें में कितने टिकट यानी बोटिंग शुल्क की पर्ची काटी गई, इसको लेकर नगर निगम के संबंधित अधिकारियों ने फिलहाल कोई जानकारी नहीं होने की बात कही। आने वाले दिनों में भी यहीं हालत रही तो करोड़ों रुपए खर्च कर बूढ़ातालाब में बोटिंग की शुरुआत करने का योजना सफल होने से रही। ऐसे में नगर निगम को खजाने से बोटिंग का खर्च वहन करना पड़ जाएगा। हालांकि नगर निगम के अधिकारियोें ने धीरे से पर्यटकों की संख्या बढ़ने के बाद बोटिंग से इनकम बढ़ने की उम्मीद जताई है।

सड़क किनारे वाहन पार्किंग से परेशानी

बूढ़ातालाब सप्रे मैदान की ओर परिसर के अंदर निशुल्क पार्किंग की व्यवस्था है। इसके बावजूद प्रवेश द्वार के सामने ही चारपहिया व दोपहिया वाहनों की पार्किंग लोग सड़क किनारे कर रहे हैं। इससे सड़क पर जाम की स्थिति होने से यातायात में लोगों काे परेशानी उठानी पड़ रही है। पार्किंग को लेकर नगर निगम के अधिकारियों का कहना है कि इंडोर स्टेडियम में भी पार्किंग की सुविधा रखी गई है, लेकिर दूर होने के कारण लोग सड़क किनारे ही वाहन पार्किंग कर रहे हैं।

तालाब-घाट की सैर कर लौट रहे : शाम 4 बजते ही लोग परिवार के साथ बूढ़ातालाब परिसर पर सैरसपाटे के लिए बड़ी संख्या में रोजाना पहुंच रहे हैं। जो देर रात 8 बजे तक लाइटिंग व पानी में दौड़ती बोट का नजारा ले रहे हैं। इसमें ज्यादातर मध्यवर्गीय परिवार के लोग शामिल हैं, जिनके लिए परिवार के साथ क्रूज व जेट बोट की सवारी बजट से बाहर जा रही है। ऐसे में वे केवल नजारा देखकर ही वापस घर लौट जा रहे हैं।

म्यूजिकल फाउंटेन की बहुरंगी छटा

शुक्रवार को सूरज ढलते ही बूढ़ातालाब में पहली बार म्यूजिकल फाउंटेन की रंगबिरंगी छटा ने पर्यटन प्रेमियों का मन मोह लिया। अब तालाब किनारे जगमगाती लाइट की सुंदरता का लोग लुफ्त उठा रहे हैं। म्यूजिकल फाउंटेन के साथ आसमान की ऊंचाई की ओर उठ रहे तालाब के पानी के इंद्रधनुषीय नजारे से परिसर पहुंचे पर्यटन प्रेेमियों के अलावा रोड से गुजरने वाले लोग भी आनंदित होते नजर आते हैं।

निशुल्क बोटिंग करने पहुंचते थे 300 से अधिक

बोटिंग टिकट का हिसाब किताब देख रहे विजय कुमार ने बताया कि जब एक सप्ताह तक मुफ्त बोटिंग कराई जा रही थी, तब रोजाना करीब 300 से अधिक लोग बोटिंग के लिए पहुंचते थे। 13 नवंबर से शुल्क तय होने के बाद बोटिंग करने वालों की संख्या घट गई है।

जानकारी लेकर ही बता पाएंगे

बूढ़ातालाब में बोटिंग के लिए शुल्क निर्धारण के बाद से अब तक कितने लोगों ने बोटिंग के लिए टिकट कटाई है, इसकी जानकारी वहां बोटिंग का संचालन कर रहे कर्मचारियों से लेकर ही बता पाएंगे।

- एजाज ढेबर, महापौर, नगर निगम, रायपुर

Next Story