Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कांग्रेसी नगर पंचायत अध्यक्ष और पार्षद ने CMO को पीटा : अध्यक्ष ने अपने कमरे में बुलाया और कई पार्षदों की मौजूदगी में गेट बंद कर पिटाई की

CMO ने कांग्रेस नेताओं पर उन्हें बंधक बनाने, गाली-गलौज करने और मारपीट करने का आरोप लगाया है। CMO का आरोप है कि इन सब के बाद जब वो पुलिस चौकी में रिपोर्ट दर्ज कराने गए तो पुलिस ने भी पहले उन्हें 3 घंटे इंतजार करवाया। किसा बात पर हुआ विवाद, पढ़िए इस खबर में...

कांग्रेसी नगर पंचायत अध्यक्ष और पार्षद ने CMO को पीटा : अध्यक्ष ने अपने कमरे में बुलाया और कई पार्षदों की मौजूदगी में गेट बंद कर पिटाई की
X

बिलासपुर। बिलासपुर जिले के मल्हार नगर पंचायत में अध्यक्ष और पार्षद की दबंगई से आहत होकर सीएमओ ने थाने का रुख किया है। CMO ने कांग्रेस नेताओं पर उन्हें बंधक बनाने, गाली-गलौज करने और मारपीट करने का आरोप लगाया है। CMO का आरोप है कि इन सब के बाद जब वो पुलिस चौकी में रिपोर्ट दर्ज कराने गए तो पुलिस ने भी पहले उन्हें 3 घंटे इंतजार करवाया। इसके बाद आखिर में पुलिस ने दोनों पक्षों के खिलाफ केस दर्ज किया है। मामला मस्तूरी थाना क्षेत्र के नगर पंचायत मल्हार का है।

मिली जानकारी के मुताबिक शुक्रवार को मल्हार नगर पंचायत में पदस्थ मुख्य कार्यपालन अधिकारी गिरीश कुमार चंद्रा ऑफिस में बैठकर काम निपटा रहे थे। तभी दोपहर करीब 3 बजे कांग्रेस नेता व नगर पंचायत अध्यक्ष अनिल कुमार कैवर्त्य ने उन्हें दो बार अपने कक्ष में बुलाया। उस समय अध्यक्ष के चेंबर में नगर पंचायत उपाध्यक्ष लक्ष्मण कांत समेत कुछ पार्षद भी मौजूद थे। नगर पंचायत अध्यक्ष के बुलाने पर गिरीश कुमार चंद्रा उनके चेंबर में चले गए थे।

साफ-सफाई के टेंडर पर विवाद

नगर पंचायत अध्यक्ष की शिकायत के मुताबिक अध्यक्ष ने CMO से कहा कि हमसे पूछे बिना आपने टेंडर कैसे निकाल दिया। मामला वार्षिक साफ-सफाई के टेंडर से जुड़ा हुआ था। इस पर CMO चंद्रा ने कहा कि PIC में टेंडर प्रस्ताव पास है और इसकी सूचना दे दी जाएगी। उनके जवाब को सुनकर अध्यक्ष भड़क गए और टेंडर निरस्त करने को कहने लगे। CMO इसके बाद कुछ कह पाते कि अध्यक्ष अपनी कुर्सी से उठ गए और धक्का-मुक्की करते हुए CMO चंद्रा के साथ मारपीट करने लगे। उन्होंने पार्षद मनमोहन कैवर्त्य को दरवाजा बंद करने के लिए कहा। इस बीच दरवाजा बंद कर उन्हें बंधक बना लिया गया और उनकी पिटाई की गई। सीएमओ ने बताया कि वह किसी तरह से वहां से निकले और सीधे मल्हार चौकी पहुंचे। चंद्रा ने पुलिस से आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की। लेकिन सीएमओ का आरोप है कि पुलिस केस दर्ज करने में आनाकानी करती रही। उन्होंने बताया कि घंटों इंतजार करने के बाद पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ गाली-गलौज व मारपीट करने का मामला दर्ज किया है। इसी तरह पुलिस ने दूसरे पक्ष से पार्षद मनमोहन कैवर्त्य की शिकायत पर CMO गिरीश चंद्रा के खिलाफ भी गाली-गलौज व धमकी देने का आपराधिक प्रकरण दर्ज कर लिया है।

जातिगत मामलों में फंसाने की धमकी

सीएमओ ने अपनी शिकायत में बताया है कि गाली-गलौज करते हुए उनके साथ मारपीट तो की ही, कांग्रेस नेताओं ने उन्हें धमकाया भी कि अगर वह इस मामले में शिकायत करेगा तो उसे एस्ट्रोसिटी एक्ट व अन्य मामलों में फंसा दिया जाएगा। सीएमओ ने नगर पंचायत अध्यक्ष पर यह भी आरोप लगाया कि उसने नौकरी से निकलवाने की भी धमकी दी है।

बेवजह तूल दिया गया: अध्यक्ष

उधर नगर पंचायत अध्यक्ष अनिल कैवर्त्य ने अपनी सफाई में कहा कि CMO को बातचीत करने के लिए बुलाया था। हमारे बीच सामान्य चर्चा हुई है। बंधक बनाने व मारपीट करने का आरोप गलत है। बेवजह इस मामले को तूल दिया जा रहा है। अखबार के माध्यम से नगर पंचायत के कार्यों का टेंडर जारी होने की जानकारी मिलने पर CMO को बुलाकर पूछा गया कि उनकी जानकारी के बिना टेंडर कैसे जारी हो गया। तब CMO ने कह दिया कि मुझे किसी से पूछने की जरूरत नहीं है।

और पढ़ें
Next Story