Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जनजीवन पर मौसम की मार : ठंड ने लोगों को घरों में किया कैद, शाम होते ही बंद हो रहीं दुकानें...

ठंड इस कदर बड़ गई है कि शाम होते ही शहर की सारी दुकानें बंद हो जाती हैं। जिसे देख ऐसा लगता है मानो जैसे नगर में कर्फ्यू लग गया हो। बारिश के साथ पड़ने वाली कड़ाके की ठंड से लोग फिर से घरों तक सिमट कर रह गए है। पढ़िये पूरी खबर-

जनजीवन पर मौसम की मार : ठंड ने लोगों को घरों में किया कैद, शाम होते ही बंद हो रहीं दुकानें...
X

सीतापुर। बिन मौसम हो रही इस बारिश ने लोगो का ही नही बल्की जनजीवन को भी पूरी तरह अस्त व्यस्त कर दिया है। बारिश के साथ-साथ पड़ने वाली कड़ाके की ठंड ने लोगो को घरों में रहने में मजबूर कर दिया है। बेमौसम हुई बारिश से लोग ठंड से बचने अलाव का सहारा ले रहे हैं।

विगत दो दिनों से रुक-रुककर हो रही बारिश की वजह से पूरा जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है।बारिश के साथ पड़ने वाली कड़ाके की ठंड ने लोगो को घरों में दुबकने को मजबूर कर दिया है। लोग इस कड़ाके की ठंड से बचने अलाव का सहारा ले रहे है। ठंड इस कदर बड़ गई है कि शाम होते ही शहर की सारी दुकानें बंद हो जाती हैं। जिसे देख ऐसा लगता है मानो जैसे नगर में कर्फ्यू लग गया हो। बारिश के साथ पड़ने वाली कड़ाके की ठंड से लोग घरों तक सिमट कर रह गए है।जिसकी वजह से शाम होते ही नगर की सड़कों में सन्नाटा पसर जाता है गली मोहल्लों में वीरानी सी छा जाती है।

समितियों ने किया मुक्कमल उपाय

बेमौसम बारिश की वजह से समितियों में जमा धान को बचाने हेतु सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये गए है। समितियो द्वारा खरीदे गए धान को बारिश से बचाने तिरपाल एवं प्लास्टिक से ढका गया है।इसके बाद भी बारिश ने धान को आंशिक रूप से प्रभावित किया है। राजस्व विभाग के अधिकारी भी खरीदी केंद्रों में बारिश से धान के बचाव हेतु किये गए सुरक्षा व्यवस्था का निरीक्षण करने पहुँचे। निरीक्षण के दौरान अधिकारियों ने बारिश से धान को बचाने किए गए व्यवस्था पर संतोष जाहिर किया।

इस संबंध में एसडीएम अनमोल विवेक टोप्पो ने बताया कि तहसीलदार समेत राजस्व विभाग के मैदानी अमला को धान खरीदी केंद्रों का निरीक्षण हेतु निर्देशित किया है। अधिकारी वहाँ जाकर निरीक्षण भी कर रहे है इस दौरान जहाँ कुछ कमियां नजर आ रही है उसे दूर कराया जा रहा है। फिलहाल खरीदी केंद्रों मे धान को बारिश से बचाने के लिए कई इंतजाम किये जा रहे है।

Next Story