Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

छत्तीसगढ़ : नशे की तस्करी का कॉरीडोर बना रायगढ़, ओड़िशा से एमपी-यूपी भेजी जा रही गांजा की बड़ी खेप, देखिए वीडियो

ओडिशा की सीमा से लगा छत्तीसगढ़ का रायगढ़ जिला पिछले कुछ सालों से अपराधियों के लिए स्मगलिंग का कॉरीडोर बना हुआ है। गांजा तस्कर ओडिशा से छत्तीसगढ़ होते हुए उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश की ओर बड़ी ही आसानी से गांजे की खेप पहुंचा रहे हैं। ये हम नहीं कह रहे हैं, बल्कि पिछले कुछ सालों से जिले के थानों में एनडीपीएस एक्ट के तहत दर्ज प्रकरणों की संख्या इस बात की पुष्टि कर रही है। पढ़िए पूरी खबर-

छत्तीसगढ़ : नशे की तस्करी का कॉरीडोर बना रायगढ़, ओड़िशा से एमपी-यूपी भेजी जा रही गांजा की बड़ी खेप, देखिए वीडियो
X

रायगढ़। रायगढ़ व जशपुर दोनों ही जिलों में पिछले कुछ सालों में बड़ी तादाद में गांजे की बरामदगी हुई है। ओड़िशा से लगे बरमकेला, सरिया, डोंगरीपाली थाना ओडिशा बॉर्डर होने के कारण ज्यादा गांजा तस्करी के लिए मुफीद है। गांजा तस्करी रोकने पुलिस मुस्तैद दिख रही है। गांजा तस्करी के हिसाब से यह इलाका कॉरिडोर बना हुआ है। यही कारण है कि ओडिशा बॉर्डर पर सीसीटीवी और पुलिस बल लगाए गए हैं। अगर रायगढ़ जिले में दर्ज प्रकरणों पर नजर डालें, तो पुलिस ने साल 2018 में गांजा तस्करी के 28 मामलों में 30 आरोपियों को गिरफ्तार किया। साल 2019 में 27 प्रकरणों में 44 आरोपी और साल 2020 में 22 प्रकरणों में 28 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। साल 2021 में अब तक 29 प्रकरणों में 37 आरोपियों की गिरफ्तारी पुलिस ने की है। आंकड़े ये बताने के लिए काफी हैं कि गांजे की तस्करी इस क्षेत्र में कितनी तेजी से हो रही है। अधिकारियों कहना है कि बार्डर एरिया में सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं। गाड़ियों की चेकिंग हो रही हैं। जो गांजा बेच रहे हैं, उन पर भी कार्यवाही की बात की जा रही है। देखिए वीडियो-



Next Story