Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना से बचने के लिए परिवार ने खाई डॉक्टर की बताई होम्योपैथिक दवा, खाते ही 8 की हुई मौत 5 गंभीर

दवाई लेते ही परिवार के लोगों की मौत का पता लगते ही आरोपी डॉक्टर हुआ फरार। गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही पुलिस की टीमें।

होम्योपैथी की ये दवाएं कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा सकती हैं
X
होम्योपैथिक दवाईयाँ (प्रतीकात्मक फोटो)

देश में तेजी से फैलते कोरोना संक्रमण से बचने के लिए हर कोई देशी नुस्खों से लेकर मेडिकल और होम्योपैथिक दवाईओं (Homeopathic Medicine) का सहारा ले रहा है। जो बहुत ही खतरनाक साबित हो सकता है। यह खतरनाक साबित हुआ भी है। जी हां ऐसी ही (Coronavirus) कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए डॉक्टर द्वारा लिखी गई होम्योपैथिक दवाई खाने से परिवार के 8 लोगों की मौत हो गई। जबकि 5 लोग मौत और जिंदगी के बीच जंग लड़ रहे हैं। सभी की हालत गंभीर बनी हुई है। मामला बिलासपुर का है। सीएमओ ने बताया कि परिवार ने होम्योपैथिक दवाई ली थी। जिसके बाद 8 लोगों की मौत हो गई।

खबरों के अनुसार, बिलासपुर में एक परिवार ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए दवाई ली। किसी डॉक्टर ने उन्हें होम्योपैथिक दवाई दे दी। जिसे खाते ही 8 लोगों की मौत हो गई। वहीं परिवार के अन्य 5 लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है। (Bilaspur CMO) सीएमओ ने बताया कि होम्योपैथिक दवाई में अल्कोहल की मात्रा बहुत ज्यादा थी। जिसकी वजह से लोगों की मौत हुई। हाल में स्वास्‍थ्य विभाग की टीम मामले की जांच कर रही है। विभाग की जांच के बाद ही मौत के सही कारणों का पता लग सकेगा। हालांकि प्रथम जांच रिपोर्ट में होम्योपैथिक दवाई से ही सभी की मौत होने की आंशका बनी हुई है।

परिवार ने ली थी यह दवाई

बिलासपुर के चीफ मेडिकल ऑफिसर ने बताया कि पूरे परिवार ने होम्योपैथिक दवाई ड्रोसेरा 30 ली थी। इस दवाई में 100 में से 91 प्रतिशत तक अल्कोहल होता है। यह देशी शराब के साथ मिलाया जाता है। इस दवाई को लेना काफी खतरनाक होता है। कई मामलों में यह दवाई जहर का काम भी करती है। ऐसा ही इस मामले में भी सामने आ रहा है। वहीं परिवार को दवाई देने वाला डॉक्टर वारदात के बाद से गायब हो गया है। पुलिस टीम आरोपी चिकित्सक की तलाश कर रही है। आरोपी डॉक्टर की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

Next Story