Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आवास दिलाने के नाम पर ठगी: महिलाओं सहित दस लोगों से ठगी, आरोपी गिरफ्तार

ठगी के शिकार हितग्राही अपनी फरियाद लेकर 10 माह तक सरकंडा थाने का चक्कर कटाते रहे। लेकिन, पुलिस ने उनकी कोई मदद नहीं की। जब अइस मामले की शिकायत IG रतनलाल डांगी तक पहुंची, तब पुलिस कुछ हरकत में आई। पुलिस ने आनन-फानन में अपराध दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पढ़िए पूरी खबर-

आवास दिलाने के नाम पर ठगी: महिलाओं सहित दस लोगों से ठगी, आरोपी गिरफ्तार
X

बिलासपुर। बिलासपुर में फिर एक बार प्रधानमंत्री आवास दिलाने के नाम पर ठगी। महिलाओं सहित दस लोगों से 10 लाख रुपए की ठगी की गई है। ठगी के शिकार हितग्राही अपनी फरियाद लेकर 10 माह तक सरकंडा थाने का चक्कर कटाते रहे। लेकिन, पुलिस ने उनकी कोई मदद नहीं की। जब अइस मामले की शिकायत IG रतनलाल डांगी तक पहुंची, तब पुलिस कुछ हरकत में आई। पुलिस ने आनन-फानन में अपराध दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। मामला सरकंडा थाना क्षेत्र का है।

मिली जानकारी के मुताबिक, खमतराई के शर्मा विहार निवासी विजय लता सोनी पति लक्ष्मी नारायण सोनी का परिचय सेवा दल के कार्यक्रम के दौरान सौरभ दुबे इंद्रप्रस्थ कॅलोनी सरकंडा निवासी से हुआ था। सौरभ ने बड़े अफसरों से परिचय होने और PM आवास योजना के तहत मकान दिलाने का झांसा दिया। इसके एवज में उसने अधिकारियों खिलाने के साथ ही शासकीय शुल्क के रूप में रकम जमा करने के लिए कहा। उसकी बातों में आकर विजय लता सोनी सहित 10 लोग मकान लेने के लिए तैयार हो गए। सभी ने मिलकर उसे 10 लाख रुपए दिए। बाद में उसने बिजली कनेक्शन के नाम से 5-5 हजार रुपए अलग वसूली कर लिया। लेकिन, इसके बाद भी लोगों को मकान नहीं मिला। तब उन्होंने इस मामले की शिकायत की। पुलिस ने धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर सौरभ दुबे को गिरफ्तार कर लिया है।

मंत्री व अधिकारियों तक बताई पहुंच

सौरभ दुबे ने लोगों को झांसे में लेने के लिए राजधानी रायपुर में मंत्री व अधिकारियों तक पहुंच होने का धौंस दिखाया। साथ ही उसने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत कई लोगों को मकान दिलाने का दस्तावेज भी दिखाया। लिहाजा, लोग उसके झांसे में आ गए।

फर्जी दस्तावेज थमाया

सौरभ दुबे ने पैसा लेने के बाद छत्तीसगढ़ विद्युत मंडल के कनेक्शन आबंटन के दस्तावेज और नगर निगम बिलासपुर कार्यालय से आवास आबंटन आदेश महिलाओं को दे दिए। लगभग एक वर्ष बीत जाने के बाद भी किसी को मकान नहीं मिला। बाद में पता चला कि उसने फर्जी दस्तावेज बनाकर महिलाओं को दिया है।

चेक बाउंस हुआ, तब थाने पहुंची

महिलाओं ने बार-बार पैसा वापस करने के लिए कहा तो सौरभ दुबे और संगीता बंजारा ने मनीष कुमार सोनी को 90 हजार रुपए, विजय लता सोनी को 3 लाख रुपए, अजय सोनी को 90 हजार रुपए, विजय लता सोनी को 3 लाख रुपए, मीना मानिकपुरी को 35 हजार रुपए का चेक थमा दिया। सभी महिलाओं ने बैंक में चेक जमा किया तो पर्याप्त राशि नहीं होने के कारण चेक बाउंस हो गया। इसके बाद से महिलाएं शिकायत लेकर थाने का चक्कर काटती रहीं।

Next Story