Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जिले को मोतियाबिंद मुक्त करने आरंग ब्लाक से शुरूआत, 350 मरीजों की पहचान, आपरेशन भी शुरू

रायपुर जिले को मोतियाबिंद मुक्त करने स्वास्थ्य विभाग ने कमर कस लिया है। इसके लिए आरंग ब्लाक में साढ़े तीन सौ मरीजों की पहचान करने के बाद उनकी सर्जरी शुरु कर दी गई है। रायपुर शहर समेत अन्य विकासखंड में भी सर्वे का काम पूरा किया जा रहा है। रायपुर जिले समेत प्रदेश में वर्ष 2025 तक चार लाख लोगों को मोतियाबिंद से मुक्त करने का लक्ष्य रखा गया है।

जिले को मोतियाबिंद मुक्त करने आरंग ब्लाक से शुरूआत, 350 मरीजों की पहचान, आपरेशन भी शुरू
X

 आंख (फाइल फोटो)

रायपुर जिले को मोतियाबिंद मुक्त करने स्वास्थ्य विभाग ने कमर कस लिया है। इसके लिए आरंग ब्लाक में साढ़े तीन सौ मरीजों की पहचान करने के बाद उनकी सर्जरी शुरु कर दी गई है। रायपुर शहर समेत अन्य विकासखंड में भी सर्वे का काम पूरा किया जा रहा है। रायपुर जिले समेत प्रदेश में वर्ष 2025 तक चार लाख लोगों को मोतियाबिंद से मुक्त करने का लक्ष्य रखा गया है।

स्वास्थ्य सहायता योजना के तहत मोतियाबिंद का इलाज निजी अस्पताल में प्रतिबंधित है। वहीं कोरोना की पहली और दूसरी लहर की वजह से इसकी सर्जरी भी प्रभावित हुई थी। कोरोना कम होने के बाद इस काम में तेजी लाई गई है। अगले पांच साल में प्रदेश में चार लाख लोगों की पहचान कर उन्हें मोतियाबिंद की परेशानी से मुक्त कराने की योजना है। इस तरह मोतियाबिंद से पीड़ित मरीजों की पहचान कर उन्हें जिला अस्पताल लाकर सर्जरी करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से सभी सीएमएचओ को निर्देश जारी किया गया है।

रायपुर जिले में इसके लिए आरंग ब्लाक से शुरुआत की गई। वहां सर्वे के माध्यम से 350 मरीजों की पहचान की गई है, जिसमें करीब सत्तर लोगों की सर्जरी कर उन्हें मोतियाबिंद मुक्त किया जा चुका है। सर्जरी के लिए चिन्हित मरीजों की पहचान कर उन्हें जिला अस्पताल अथवा आंबेडकर अस्पताल बुलाकर उनकी सर्जरी की जा रही है।

सूत्रों के मुताबिक आरंग विकासखंड में लक्ष्य पूरा होने के बाद धरसींवा, अभनपुर, तिल्दा इसके बाद रायपुर शहर में सर्वे कर मोतियाबिंद की सर्जरी करवाने वाले मरीजों को चिन्हित किया जाएगा। प्रदेश में वर्ष 2025 तक चार लाख मोतियाबिंद सर्जरी करने का महाभियान शुरु किया गया है। इसके लिए हर जिले को प्रत्येक माह सर्जरी का टार्गेट दिया जा रहा है।

मितानीन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की मदद

अभियान को पूरा करने स्वास्थ्य कार्यकर्ता, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की मदद ली जा रही है। वे विकासखंडों में जाकर रोगियों की पहचान करेंगे। अस्पतालों को सर्जरी के दौरान कोरोना गाइडलाइन का पालन करने के निर्देश भी दिए गए हैं। आपरेशन का लक्ष्य पूरा होने के बाद गांव, तहसील और जिला स्तर पर मोतियाबिंद मुक्त घोषित किया जाएगा।

लगातार सर्जरी

मोतियाबिंद के रोगियों की पहचान कर उन्हें अस्पताल बुलाकर लगातार आपरेशन किया जा रहा है। अभी आरंग ब्लाक में सर्वे कर सर्जरी की जा रही आने वाले दिनों में अन्य ब्लाक में भी रोगियों की पहचान की जाएगी।



Next Story