Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

यात्री किराया नहीं बढ़ाया तो अनिश्चितकालीन चक्काजाम, खारून में लेंगे जल समाधि

यात्री किराया बढ़ाने की मांग को लेकर पूरे प्रदेश में बस संचालकों ने गुरुवार को जिला मुख्यालयों में सांकेतिक रूप से चक्काजाम कर प्रदर्शन किया। बस संचालकाे ने यात्री किराया बढ़ाने की मांग को लेकर बसों की बारात निकाली। रायपुर के 166 बस ऑपरेटर पंडरी बस स्टैंड से जुलूस की शक्ल में अपनी बसों के साथ कलेक्टोरेट कार्यालय ज्ञापन देने निकले थे

यात्री किराया नहीं बढ़ाया तो अनिश्चितकालीन चक्काजाम, खारून में लेंगे जल समाधि
X

बस  (प्रतीकात्मक फोटो)

यात्री किराया बढ़ाने की मांग को लेकर पूरे प्रदेश में बस संचालकों ने गुरुवार को जिला मुख्यालयों में सांकेतिक रूप से चक्काजाम कर प्रदर्शन किया। बस संचालकाे ने यात्री किराया बढ़ाने की मांग को लेकर बसों की बारात निकाली। रायपुर के 166 बस ऑपरेटर पंडरी बस स्टैंड से जुलूस की शक्ल में अपनी बसों के साथ कलेक्टोरेट कार्यालय ज्ञापन देने निकले थे लेकिन बस ऑपरेटरों को खालसा स्कूल के पहले रोककी केनाॅल रोड की तरफ जाने वाले मार्ग की ओर डायवर्ट कर दिया गया। बस ऑपरेटरों ने चेतावनी दी है कि राज्य सरकार जल्द ही बस भाड़े में वृद्धि नहीं करती है तो आने वाले दिनों में अनिश्चितकालीन चक्काजाम करने के अलावा 14 जुलाई को खारुन नदी में जलसमाधि लेंगे।

राज्य में करीब नौ हजार बसें संचालित की जा रही हैं। डीजल की कीमत लगातार बढ़ने के साथ बसों के स्पेयर पार्ट्स में जीएसटी शुल्क की वृद्धि के साथ रिमोल्ड टायर की कीमत 40 प्रतिशत तक बढ़ने और तमाम तरह के टैक्स में बढ़ोतरी होने का हवाला देकर छत्तीसगढ़ यातायात महासंघ यात्री किराए में 40 प्रतिशत बढ़ोतरी करने सरकार से मांग कर रहा है। इसी कड़ी में परिवहन मंत्री के नाम सभी जिला मुख्यालयों में बस ऑपरेटरों ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। रायपुर में छत्तीसगढ़ यातायात महासंघ के संस्थापक प्रमोद दुबे, प्रदेश अध्यक्ष सैयद अनवर अली, महासचिव शेषनाथ कसार, संयोजक नरेंद्रपाल सिंह गरचा सहित अन्य नेता कलेक्टर को ज्ञापन देने के पहुंचे।

बसों की बारात से सड़क जाम की स्थिति

बस संचालक करीब 50 की संख्या में जब अपनी बसों के साथ पंडरी से ज्ञापन देने के लिए निकले तो पंडरी के एलआईसी बिल्डिंग से लेकर खालसा स्कूल से आगे तक जाम की स्थिति निर्मित हो गई। बस संचालकों को बसों की बारात निकालने पुलिस प्रशासन ने अनुमति नहीं दी थी। बावजूद इसके बस संचालकों ने बसों की बारात निकाली। जाम की स्थिति को देखते हुए मौके पर पुलिस टीम ने बसों को खालसा स्कूल के पहले केनाॅल लिंक रोड जाने के मार्ग की तरफ मोड़कर कलेक्टोरेट कार्यालय जाने से रोका। बस ऑपरेटर केनॉल लिंक रोड से पैदल कलेक्टोरेट कार्यालय पहुंचे और ज्ञापन सौंपा।

निष्प्रयोग की समयसीमा समाप्त करने की मांग

बस ऑपरेटरों ने यात्री किराया बढ़ाए जाने के साथ बसों की तथा परमिट के निष्प्रयोग की समयसीमा वर्ष में दो माह दिए जाने संबंधित नियम को समाप्त करने की मांग की है। बस ऑपरेटरों का कहना है कि कई बार बारिश के साथ अन्य वजहों से उनकी बस दो महीने से ज्यादा समय के लिए खड़ी हो जाती है। इस वजह से बसों के निष्प्रयोग की समयसीमा के नियम को बस ऑपरेटर समाप्त करने की मांग कर रहे हैं।

अनिश्चितकालीन चक्काजाम से बढ़ेगी परेशानी

यात्री किराया नहीं बढ़ाने पर बस ऑपरेटरों ने आगामी 13 जुलाई से अनिश्चितकालीन चक्काजाम करने की चेतावनी दी है। कोरोेना संक्रमण की स्थिति सुधरने के बाद लोगों की एक शहर से दूसरे शहर तक आवाजाही शुरू हो गई है। ऐसी स्थिति में बसों के पहिए थमने के बाद लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। छत्तीसगढ़ में एक शहर से दूसरे शहर तक आवाजाही करने रेल कनेक्टिविटी कम होने की वजह से ज्यादातर लोग पब्लिक ट्रांसपोर्ट के माध्यम से एक शहर से दूसरे शहर आवागमन कर रहे हैं।



और पढ़ें
Next Story