Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नेतृत्वकर्ताओं की रिहाई कराने बारिश में भीगती थाने पहुंचीं महिलाओं को, अब भाजपा का समर्थन

राजधानी में पुलिस परिवार साप्ताहिक अवकाश, वेतन समेत अन्य मांगों को लेकर कर चुका है आंदोलन, भाठागांव बस स्टैंड के पास पुलिस परिवारों की सैकड़ों महिलाएं आंदोलन करने पहुंचीं, दस गिरफ्तार, नेतृत्वकर्ता को जेल भेजा, भाठागांव में पुलिस परिवारों के चक्काजाम की भनक लगने पर भारतीय जनता पार्टी के नेता गौरीशंकर श्रीवास भी उनके समर्थन में उतर आए। पुलिस व सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे और उज्जवल दीवान की रिहाई की मांग की, जिस पर पुलिस ने उन्हें भी हिरासत में लेकर थाने भेज दिया। पढ़िए पूरी ख़बर..

नेतृत्वकर्ताओं की रिहाई कराने बारिश में भीगती थाने पहुंचीं महिलाओं को, अब भाजपा का समर्थन
X

रायपुर: पुलिस परिवारों के आन्दोलन में राजनितिक दलों की भी एंट्री हो चुकी है। भाजपा विधायक एवं पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा, पुलिस परिवार से किए गए वादों को प्रदेश सरकार को पूरा करना चाहिए। उनका कहना है भूपेश बघेल को पुलिस व उनके परिवार की जरूरत सिर्फ वोट लेने तक ही सीमित थी। वोट लेने के बाद 3 साल तक इन्हें पुलिस परिवार की याद नहीं आई और आज जब पुलिस परिवार अपनी जायज मांगों को लेकर सरकार द्वारा किए गए वादे को याद दिलाने के लिए आंदोलन करने सामने आए तो यह सरकार दमन पर उतर आई है। अग्रवाल ने कहा, प्रदेश सरकार ने विधानसभा चुनाव के पूर्व वोट लेने के लिए पुलिस परिवारों को व पुलिस कर्मचारियों को नए-नए सब्जबाग दिखाए थे। जितने वादे किए थे, उसमें एक भी वादा इन 3 सालों में पूरा नहीं कर पाए और आज जब पुलिस परिवार के सदस्य इन्हीं वादों को याद दिलाने के लिए रावणभाटा में इकट्ठे हुए तो उन्हें न तो अपनी बातें रखने दी गईं और न ही उनकी बातें सुनी गईं। बल्कि जायज मांगों को लेकर सड़क में उतरे इन परिवारों को पुलिस ने बलपूर्वक वहां से भगाया, धक्का-मुक्की की। महिलाओं, बच्चों सहित लोग घायल हुए हैं। अनेक लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। अग्रवाल ने कहा कि सरकार इन परिवारों को लंबे समय से सब्जबाग दिखा रही है। अब इनकी मांगें पूरी करनी चाहिए।

पुलिस परिवार आंदोलन के बजाय धैर्य रखें, कमेटी के सुझाव का करें इंतजार

इधर प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा, सरकार पुलिस के जवानों और पुलिस परिवारों की समस्याओं के प्रति संवेदनशील है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर पुलिस जवानों की समस्याओं के निराकरण के लिए उच्चस्तरीय कमेटी का गठन किया गया है। कमेटी पुलिस की समस्याओं के निराकरण के सुझाव देगी। पुलिस परिवार के लोगों को आंदोलन के बजाय धैर्य रखकर कमेटी के सुझाव आने का इंतजार करना चाहिए। उन्होंने कहा, कांग्रेस सरकार राज्य के जन-जन और पुलिस सहित सभी विभागों के कर्मचारियों के कल्याण के लिए लगातार कदम उठा रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा 4 हजार सहायक आरक्षकों को आरक्षक के पद पर पदोन्नति और वेतन भत्ते में बढ़ोतरी का प्रस्ताव डीजीपी को देने कहा है। पुलिस को साप्ताहिक अवकाश, रिस्पांस भत्ता दिया जा रहा है। उन्होंने कहा, पिछले 15 सालों में इनकी समस्याओं के निदान तरफ से पूर्ववर्ती सरकार को जो कदम उठाने थे, नहीं उठाए गए। कांग्रेस की सरकार पूरी गंभीरता के साथ पुलिसकर्मियों के शारीरिक, मानसिक और आर्थिक उत्थान के लिए काम कर रही है।

Next Story