Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

विकास कार्यों के लिए भाजपा पार्षद 100 करोड़ लेने मंत्री बंगले पहुंचे, डहरिया बोले- नेतागिरी मत करो

उपनेता प्रतिपक्ष मनोज वर्मा ने 70 वार्डों के लिए मांगे 100 करोड़, नेता प्रतिपक्ष मीनल चौबे ने नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव डहरिया को अवगत कराया, पार्षदों द्वारा वार्ड विकास के लिए बनाकर भेजे गए प्रस्ताव को निगम के अधिकारी अहमियत नहीं दे रहे। पढ़िए पूरी ख़बर...

विकास कार्यों के लिए भाजपा पार्षद 100 करोड़ लेने मंत्री बंगले पहुंचे, डहरिया बोले- नेतागिरी मत करो
X

रायपुर: भाजपा पार्षद दल ने मंगलवार को नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री डॉ. शिव डहरिया से उनके बंगले में मुलाकात करने शहर के 70 वार्डों के विकास के लिए 100 करोड़ की राशि देने की मांग की। नेता प्रतिपक्ष मीनल चौबे के नेतृत्व में डेढ़ दर्जन पार्षदों ने नगरीय प्रशासन मंत्री को वार्डों में विकास कार्य को लेकर हो रही परेशानी से अवगत कराते हुए कहा, पिछले 2 साल से वार्ड विकास के लिए फूटी-कौड़ी पार्षदों को राज्य शासन से नहीं मिली। जनता के बीच निवार्चित पार्षद क्या मुंह लेकर जाएं? उपनेता प्रतिपक्ष मनोज वर्मा ने मंत्री श्री डहरिया से कहा, वार्डों के विकास के लिए कम से कम 100 से 200 करोड़ की राशि उपलब्ध कराई जाए, ताकि 70 वार्डों में विकास कार्य हो सकें। उपनेता प्रतिपक्ष को नगरीय प्रशासन मंत्री ने दो टूक जवाब दिया, नेतागिरी मत करो। वार्डाें के विकास के लिए जो हो सकेगा, करूंगा।

छोटे-छोटे काम के लिए पैसा नहीं, कहां जाएं?

नेता प्रतिपक्ष मीनल चौबे ने नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव डहरिया को अवगत कराया, पार्षदों द्वारा वार्ड विकास के लिए बनाकर भेजे गए प्रस्ताव को निगम के अधिकारी अहमियत नहीं दे रहे। छोटे-छोटे काम के लिए उन्हें कहा जाता है, निगम के पास पैसे नहीं हैं, जबकि वार्ड की जनता निर्वाचित जनप्रतिनिधियों से अपेक्षा रखती है, पर यहां तो 2 साल बीतने के बाद भी फूटी-कौड़ी नहीं मिली।

भाजपा पार्षद दल मायूस, चर्चा के लिए समय नहीं

भाजपा पार्षदों के अनुसार आधा घंटा इंतजार करने के बाद भी विभागीय मंत्री ने भाजपा पार्षद दल को चर्चा करने समय नहीं दिया। जबकि पार्षद दल पहले से समय लेकर नगरीय प्रशासन मंत्री से चर्चा के लिए उनके बंगले गया था। इस बात को लेकर कुछ नए पार्षदों व महिला पार्षदों में नाराजगी रही कि 2 साल में पहली बार वार्ड विकास के लिए चर्चा करने आए, पर उन्हें अपनी बात कहने का मौका नहीं मिला। पार्षदों ने नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष और पार्टी के वरिष्ठ पार्षदों के समक्ष अपनी नाराजगी जाहिर की।

फूटा गुस्सा उबले भाजपा पार्षद ..

समस्या सुनने मंत्रीजी के पास समय नहीं

पहली बार पार्षद निर्वाचित होेकर आए हैं, स्लम बस्ती वाले वार्ड में नाली, सड़क, पुलिया बनाने के लिए दर्जनों प्रस्ताव जोन में बनाकर भेजे हैं, पर एक भी प्रस्ताव को मंजूरी नहीं मिली। महापौर से लेकर निगम आयुक्त तक इसकी शिकायत की, पर फंड नहीं होने का हवाला देकर काम नहीं करा रहे। वार्ड की जनता हमसे जवाब मांगती है। मंत्री के पास समस्या लेकर गए, पर समस्या सुनने उनके पास समय नहीं है।

- कुंवर रजियंत सिंह ध्रुव, पार्षद, ईश्वरीचरण शुक्ल वार्ड

विकास कार्य ठप, प्रस्ताव धूल खा रहे

वार्ड विकास से संबंधित प्रस्ताव पूर्व में हमसे मांगे गए, तुंहर सरकार तुंहर द्वार शिविर के समय के आवेदन लंबित हैं। कई बार आग्रह किया, पर वार्डों के विकास की ओर किसी का ध्यान नहीं है। जो प्रस्ताव जोन में दिए, वे धूल खा रहे। नगरीय प्रशासन मंत्री को ज्ञापन दिया है, देखते हैं, क्या होता है।

- भोलाराम साहू, पार्षद

प्रस्ताव मांगा है, चर्चा के लिए बैठेंगे

भाजपा पार्षद दल को विभागीय मंत्री ने आश्वासन दिया है कि एक सप्ताह बाद वार्डों की समस्या सुनने वे बैठेंगे। पार्षदों से प्रस्ताव बनाकर लाने कहा गया है।

- मीनल चौबे, नेता प्रतिपक्ष, नगर निगम रायपुर

Next Story