Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बर्ड फ्लू : 3500 मुर्गी और 18 हजार चूजे दफनाए गए, 30 हजार अंडों को भी किया नष्ट

कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच सरगुजा में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बाद हड़कंप मच गया है। सकालो पोल्ट्रीफार्म से लिए गए सैम्पल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। सोमवार की देर रात रिपोर्ट आने के साथ ही प्रसाशन ने हाई अलर्ट जारी करने के साथ ही टीमों का गठन किया है।

बर्ड फ्लू : 3500 मुर्गी और 18 हजार चूजे दफनाए गए, 30 हजार अंडों को भी किया नष्ट
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

अंबिकापुर. कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच सरगुजा में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बाद हड़कंप मच गया है। सकालो पोल्ट्रीफार्म से लिए गए सैम्पल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। सोमवार की देर रात रिपोर्ट आने के साथ ही प्रसाशन ने हाई अलर्ट जारी करने के साथ ही टीमों का गठन किया है। संक्रमण के खतरे को देखते हुए आज जिला प्रसाशन द्वारा चिकन मार्केट को पूर्ण रूप से बंद करा दिया गया है जबकि सकालो स्थित शासकीय पोल्ट्री फॉर्म में टीम द्वारा 353 मुर्गियों, 18397 चूजे व 30265 अण्डों को नष्ट किया गया है। इसके साथ ही कलेक्टर द्वारा एक विभिन्न टीमों का गठन किया गया है जो पोल्ट्री फॉर्म के एक किमी के दायरे में आने वाले सभी पक्षियों को नष्ट करेगी । दस किमी के एरिया में आने वाली दुकानों व पोल्ट्रीफॉर्म से मुर्गियों में सैम्पल लेकर जांच के लिए भेजा जाएगा। दस किमी के दायरे में पूरा शहर आ गया है।

दरअसल जनवरी माह में ही देश के साथ ही प्रदेशभर में पक्षियों में होने वाले संक्रमण एवियन इन्फ्लुएंजा को लेकर अलर्ट जारी किया गया था व समय समय पर पोल्ट्री फॉर्म के साथ ही अन्य स्थानों से पक्षियों के सैम्पल लेकर जांच के लिए हाई सिक्युरिटी लैब भोपाल व पुणे भेजने के निर्देश दिए गए थे। बर्ड फ्लू को लेकर जारी किए गए अलर्ट के बाद बलरामपुर व सरगुजा जिले में कई बार कौवे व अन्य पक्षियों के मरने की जानकारी आती रही लेकिन इनमें एवियन इन्फ्लुएंजा की पुष्टि नहीं हुई थी। इसके साथ ही सकालो स्थित शासकीय पोल्ट्री फॉर्म से भी समय समय पर सैम्पल जांच के लिए भेजे जा रहे थे लेकिन इसकी रिपोर्ट निगेटिव आ रही थी। इस बीच 12 फरवरी को पुनः शासकीय पोल्ट्री फॉर्म सकालो से मुर्गियों के सैम्पल लेकर जांच के लिए हाई सिक्युरिटी लैब पुणे भेजा गया था जिसकी रिपोर्ट सोमवार की देर शाम मिली। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद प्रदेश के साथ ही जिले में भी हड़कंप मच गया। सकालो पोल्ट्री फॉर्म में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बाद देर शाम ही कलेक्टर संजीव झा ने मैरीन ड्राइव सहित अन्य स्थानों पर संचालित चिकन मार्केट को बंद करने के साथ ही पोल्ट्री फॉर्म को सील करने के निर्देश दे दिए थे। इसके साथ ही कलेक्टर ने पक्षियों के डिस्पोजल के लिए टीम का गठन कर दिया था।

चिकन मार्केट में पसरा सन्नाटा

सरगुजा में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बाद कलेक्टर संजीव झा के निर्देश पर आज शहर के मैरीन ड्राइव स्थित चिकन मार्केट सहित अन्य चिकन दुकानों को बंद करा दिया गया है। सकालो पोल्ट्री फॉर्म के दस किमी के दायरे में आने वाले पोल्ट्री फॉर्म, दुकानों में मुर्गियों के नमूने लिए जाएंगे और उन्हें जांच के लिए भेजा जाएगा।

किया जा रहा है नष्ट

बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बाद कुक्कुट व कुक्कुट उत्पादों को नष्ट करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। पोल्ट्री फॉर्म के एक किमी के दायरे में आने वाले सभी पोल्ट्री उत्पादों को नष्ट किया जाएगा व दस किमी के दायरे में आने वाली दुकानों व पोल्ट्री फॉर्म व पोल्ट्री उत्पादों के विक्रय व परिवहन पर प्रतिबंध लगाया गया है। टीम द्वारा इन स्थानों से सैम्पल लेकर जांच के लिए भेजा जाएगा।

संजीव झा, कलेक्टर सरगुजा

एक किमी के दायरे में सर्वे

सकालो पोल्ट्री फॉर्म में मुर्गियों, अंडों को नष्ट करने के साथ ही पशु चिकित्सा विभाग द्वारा पोल्ट्री फॉर्म के 1 किलोमीटर की परिधि में विशेष टीम गठित कर सर्वे का कार्य प्रारंभ किया गया है। सर्वे उपरांत उक्त पक्षियों का डिस्पोजल एवं निरजंतुकरण किया जाएगा तथा शासन द्वारा निर्धारित क्षतिपूर्ति का भुगतान भी किया जाएगा। संक्रमण के खतरे को देखते हुए कुक्कुट व कुक्कुट उत्पादों के विक्रय एवं परिवहन पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाया गया है।

बनाया गया कन्टेनमेंट जोन

बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बाद सकालो के पोल्ट्री फॉर्म को कन्टेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है और यहां लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। बर्ड फ्लू को लेकर अलर्ट जारी होने के बाद आज पशु चिकित्सा विभाग के एडिशनल डायरेक्टर डॉ. ध्रुव भी रायपुर से सरगुजा पहुंचे थे। उन्होंने सकालो पोल्ट्री फॉर्म का जायजा लेने के साथ ही आवश्यक दिशा निर्देश दिए। आज सकालो पोल्ट्री फॉर्म परिसर में ही जेसीबी के माध्यम से गड्ढे खोदकर उनमें मुर्गी, चूजे व अण्डों को दफन किया गया है। पशु चिकित्सा विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार पोल्ट्री फॉर्म में कुल 3 हजार 533 लेयर पक्षी, 18 हजार 397 चूजे व 30 हजार 265 अंडे है जिन्हे नष्ट किया जाएगा। डॉक्टरों व कर्मचारियों ने पीपीई किट पहनकर पक्षियों को नष्ट करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है लेकिन बारिश शुरू होने के कारण प्रक्रिया थोड़ी प्रभावित हुई है।

Next Story