Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बड़ी ख़बर: ओमिक्रॉन के तीसरी लहर में बदलने की आशंका, छत्तीसगढ़ में दी जा सकती है बच्चों को वैक्सीन

स्वास्थ्य विभाग(health department) बच्चों की जानकारी जुटा रहा है। कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन ने सरकार की बच्चों के प्रति चिंता बढ़ा दी है। तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए अब जल्द ही बच्चों के लिए टीकाकरण(starting vaccination for children) शुरू होने की सुगबुगाहट चल रही है। इसके लिए शिक्षा विभाग के सहयोग से 12 से 17 साल के स्कूली बच्चों के आधार कार्ड, मोबाइल नंबर और एड्रेस मांगा गया है। पढ़िए बड़ी ख़बर...

बड़ी ख़बर: ओमिक्रॉन के तीसरी लहर में बदलने की आशंका, छत्तीसगढ़ में दी जा सकती है बच्चों को वैक्सीन
X

रायपुर: स्वास्थ्य विभाग(health department) को जिला स्तर पर 12 से 17 साल के बच्चों की जानकारी जुटाने कहा गया है। इसमें उनके आधार कार्ड से लेकर मोबाइल नंबर और एड्रेस के साथ ही स्कूल की जानकारी एकत्र करने कहा गया है। अफसरों ने बताया कि उन्हें बच्चों की स्कूलवार जानकारी एकत्रित करने कहा गया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम स्कूलों में जाकर टीकाकरण करेगी।(starting vaccination for children) बच्चों के लिए बड़ों की तरह टीकाकरण केंद्र नहीं बनाया जाएगा। हालांकि, अभी इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

टीकाकरण अधिकारी मनोज सेमुअल ने बताया कि बच्चों के टीके का ट्रायल अंतिम चरण में है, तो हो सकता है कि आने वाले समय में टीकाकरण शुरू हो। इससे पहले ही आंकड़ा जुटाने की योजना बनाई जा रही है। जिले के स्कूलों से 12 से 17 साल के बच्चों की जानकारी जुटाने के निर्देश दिए गए हैं। ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि बच्चों के लिए भी शीघ्र टीकाकरण शुरू हो सकता है। बताया जा रहा है कि जिले में ऐसे बच्चों की संख्या 2 से ढाई लाख हो सकती है।

बताया जा रहा है कि नया वैरिएंट ओमिक्रॉन तीसरी लहर के रूप में सामने आएगा। लिहाजा, केंद्र सरकार की ओर से बच्चों के लिए टीकाकरण शुरू करने की तैयारी करने की चर्चा है। इसकी वजह यह है कि बच्चों के लिए अभी तक टीकाकरण नहीं हो सका है। ऐसे में बच्चों की सेहत का ध्यान रखना जरूरी है। विदेशों से आने वालों की सघन निगरानी रखने के साथ ही स्वास्थ्य विभाग को एक और नई जिम्मेदारी मिल गई है। कोरोना वायरस का नया वैरिएंट बच्चों के लिए खतरनाक माना जा रहा है।

Next Story