Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हाथियों की मौत का मामला हाईकोर्ट में, CSEB को नोटिस जारी

IFS के रिटायर्ड अधिकारी ने दाखिल की याचिका, हाईकोर्ट ने CSEB को 4 सप्ताह में मांगा जवाब। पढ़िए पूरी खबर-

हाथियों की मौत का मामला हाईकोर्ट में, CSEB को नोटिस जारी
X

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ में हाथियों के उत्पात और उनकी मौत सुर्ख़ियों में बनी हुई है। इस बीच कई अधिकारियों और कर्मचारियों का तबादला हो चुका है। वहीं अब हाथियों की मौत मामला हाईकोर्ट पहुंचा है। IFS के रिटायर्ड अधिकारी डॉ. अनूप भल्ला ने याचिका दाखिल की है। दायर की गई याचिका में हाथियों और इंसानों को बचाने के उपाय की मांग की गई है। याचिका में कहा गया है कि प्रदेश में पिछले 10 सालों में सौ से अधिक हाथियों और 3 सौ के करीब इंसानों की मौत हो चुकी है। करंट की चपेट में आने से 50 प्रतिशत हाथियों की मौत हुई है। यह मामला चीफ जस्टिस पीआर रामचंद्र मेनन और जस्टिस पीपी साहू के डिविजन बेंच में लगा था।

इस मामले में हाईकोर्ट ने CSEB को अर्जेंट नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने राज्य सरकार से 4 सप्ताह में जवाब मांगा है।

बता दें पिछले दिनों में बलरामपुर, धमतरी, रायगढ़, सरगुजा, कोरबा, सूरजपुर और कुछ इलाकों में हाथियों की मौत हुई थी। प्रदेश में गजराज की मौत के ब़ढ़ते आंकड़ों से सरकार सकते में थी।एक हफ्ते में 5 हाथियों की मौत के बाद ही भूपेश सरकार हरकत में आ गई थी और सीएम भूपेश बघेल ने अफसरों को घटनास्थल पर रवाना किया था।

एक के बाद एक हाथियों की हो रही मौत से वन्यजीव संरक्षण विभाग के अफसर हैरान और परेशान थे। हाथियों की मौत का खामियाजा अफसरों को भी भुगतना पड़ा सरगुजा संभाग में हुई हाथियों की मौत के मामले में अनेक अफसरों पर गाज गिरी। इसके बाद जांच कमेटी का गठन किया गया था।

करंट के संपर्क में आने से हुई थी हाथियों की मौत

हाथियों की मौत के अधिकतर मामलों में मौत की वजह करंट से होना पाया गया था। रिटायर्ड अफसर ने अपनी याचिका में बताया है कि प्रदेश में पिछले 10 सालों में सौ से अधिक हाथियों और 3 सौ के करीब इंसानों की मौत हो चुकी है। करंट की चपेट में आने से 50 प्रतिशत हाथियों की मौत हुई है।

सिलसिलेवार हो रहे हाथियों की मौत के बाद राज्य सरकार समेत केंद्र सरकार भी हरकत में आई और टीम गठित कर घटना स्थल पर भेजा। टीम ने मौके पर पहुंच कर हाथियों की मौत के मामले में स्थानीय लोगों के बयान भी दर्ज किये थे।

Next Story