Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वन कर्मियों पर भड़के बैगा आदिवासियों ने किया चक्काजाम : दो ग्रामीणों की गिरफ्तारी, महिलाओं-बच्चों से मारपीट पर फूटा आक्रोश

छत्तीसगढ़ में टाईगर रिजर्व के नाम से जाने सुप्रसिद्ध आचानकमार अभयारण्य लगातार सुर्खियों में रहा है। जंगली जानवरों का लगातार हो रहा शिकार, राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र बैगा आदिचासियों का शोषण, तो कहीं लगातार वनों की कटाई का मामला उजागर होता रहता है। पढ़ुिये पूरी खबर-

वन कर्मियों पर भड़के बैगा आदिवासियों ने किया चक्काजाम : दो ग्रामीणों की गिरफ्तारी, महिलाओं-बच्चों से मारपीट पर फूटा आक्रोश
X

लोरमी। छत्तीसगढ़ में टाईगर रिजर्व के नाम से जाने सुप्रसिद्ध आचानकमार अभयारण्य लगातार सुर्खियों में रहा है। जंगली जानवरों का लगातार हो रहा शिकार, राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र बैगा आदिचासियों का शोषण, तो कहीं लगातार वनों की कटाई का मामला उजागर होता रहता है। ऐसे ही एक मामले में गुरुवार को लोरमी के सुदूर वनांचल भूतकछार सहित आस-पास के वनांचल से सैकड़ों बैगा आदिवासियों ने लोरमी स्थित वन विभाग के कार्यालय का का घेराव करने के उद्देश्य से लोरमी पहुंचे। लेकिन यहां ताला लगा हुआ मिला। जिससे इन आदिवासियों का गुस्सा और भड़क गया। inh24×7 की टीम ने इनसे पूछताछ की तो आदिवासियों ने बताया कि उनके गांव के उत्तम धुर्वे और भागवत पट्टा को बगैर कारण वन विभाग की टीम ने घर से गिरफ्तार कर लिया है और आदिवासियों के घरों में मौजूद महिलाओं सहित उनके बच्चों को भी लाठियों से पीटा गया है। जिससे आक्रोशित ग्रामीणों ने लोरमी स्थित वन विभाग के कार्यालय को घेरने की कोशिश की, लेकिन ताला लगा होने के कारण उन्होंने चक्काजाम कर दिया है। जिससे बिलासपुर-पंडरिया मार्ग में मुश्किले बढ़ती हुई नजर आ रही हैं। वहीं इन आदिवासियों का कहना है कि वन विभाग वाले उत्तम धुर्वे और भागवत पट्टा को लेकर गए तो उन्होंने क्या अपराध किया है, हमें भी बताएं। बहरहाल लोरमी SDM मेनका प्रधान, तहसीलदार और पुलिस की टीम लगातार उन्हें समझाने का प्रयास कर रही है। लेकिन दोपहर से जमे ये आदिवासी सड़क से टस से मस नहीं हो रहे हैं। बहरहाल देखना होगा कि रात गहराने के बाद ये आदिवासी क्या करते हैं और क्या करता है प्रशासन। देखिये वीडियो-






Next Story