Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

धोखे से छीना तीर-धनुष : वनवासियों में फारेस्ट डिपार्टमेंट के खिलाफ आक्रोश, दी आंदोलन की चेतावनी

मुंगेली जिले में स्थित लोरमी विधानसभा अंर्तगत अचानकमार टाइगर रिजर्व अभयारण्य में एक बार फिर वन विभाग के अधिकारी कटघरे में नजर आ रहे हैं। इलाके के बैगा आदिवासियों ने एक बार फिर वन विभाग के अधिकारियों के ऊपर हल्ला बोल दिया है। क्या है मामला पढ़िए पूरी खबर...

धोखे से छीना तीर-धनुष : वनवासियों में फारेस्ट डिपार्टमेंट के खिलाफ आक्रोश, दी आंदोलन की चेतावनी
X

राहुल यादव/लोरमी। छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले में स्थित लोरमी विधानसभा अंर्तगत अचानकमार टाइगर रिजर्व अभयारण्य में एक बार फिर वन विभाग के अधिकारी कटघरे में नजर आ रहे हैं। इलाके के बैगा आदिवासियों ने एक बार फिर वन विभाग के अधिकारियों के ऊपर हल्ला बोल दिया है। दरअसर 29 मार्च को वन विभाग के एसडीओ, वन परिक्षेत्र के रेंजर सहित डिप्टी रेंजर के नेतृत्व में आदिवासियों का धनुष तीर बाण सम्मेलन कराया गया। इसमें इलाके के सभी बैगा आदिवासियों ने हिस्सा लिया लेकिन प्रतियोगिता के नाम पर धनुष बाण का समर्पण भी करा दिया गया।

इससे प्रतीत होता है कि अधिकारी आदिवासियों की संस्कृति के साथ और उनके आत्मसम्मान के साथ खेल कर रही हैं तो वही विषतापन के नाम पर आदिवासियों के साथ खेल चल रहा। इसी समस्याओं को लेकर इलाके के वनवासी लोरमी अनुविभागीय अधिकारी के पास पहुंचे और उन्हें ज्ञापन दिया। इसमें एक दिवसीय धरना प्रदर्शन करने का अल्टीमेटम दिया गया है। अनुविभागीय अधिकारी मेनका प्रधान ने बताया कि वन विभाग के अधिकारियों से इस विषय पर चर्चा हो गई है। एक से दो दिनों में इस समस्या का निराकरण निकल जाएगा। वहीं मुंगेली जिला कांग्रेस अध्यक्ष सागर सिंह ने कहा कि आदिवासियों के सांस्कृति को मजाक बनाना गलत है, उनकी तीर धनुष जल्द वापस किया जाए।

और पढ़ें
Next Story