Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं में आक्रोश, जबरदस्त आंदोलन की बना रहे रणनीति

संघ का कहना है कि अपनी लंबित मांगो को लेकर सरकार से लगातार गुहार लगा रहे हैं लेकिन आज तक सरकार की ओर से कोई सकारात्मक पहल नहीं हुई। जिससे सभी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं में सरकार के प्रति आक्रोश है, लिहाजा जबरदस्त आंदोलन की रणनीति बनाई जा रही है। पढ़िए पूरी खबर-

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं में आक्रोश, जबरदस्त आंदोलन की बना रहे रणनीति
X

रायपुर। शासकीय व कलेक्टर दर नहीं करने और बच्चों का वजन एंट्री कार्यकर्ताओं द्वारा करवाए जाने पर छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ में भारी आक्रोश है। संघ का कहना है कि अपनी लंबित मांगो को लेकर सरकार से लगातार गुहार लगा रहे हैं लेकिन आज तक सरकार की ओर से कोई सकारात्मक पहल नहीं हुई। जिससे सभी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं में सरकार के प्रति आक्रोश है और जबरदस्त आंदोलन की रणनीति बनाई जा रही है।

रायपुर जिला अध्यक्ष भुनेश्वरी तिवारी ने बताया कि अभी हम कोरोना डयूटी से मुक्त नहीं हुए है। वहीं विभागीय अभियान वजन त्यौहार 1 जुलाई से 16 जुलाई तक मनाया गया है, जिसमें 5 साल तक के बच्चों का वजन और ऊंचाई मापना और किशोरी बालिकाओं का वजन ऊंचाई एनीमिक जांच A.N.M. के द्वारा हम लोग करते हैं, जिससे बच्चों की शारीरिक वृद्धि और विकास की जानकारी हो सके। कुपोषण से बच्चों का जीवन प्रभावित होता है, कुपोषण का शिकार हो रहे बच्चों को अपने निगरानी में रखा जाता है, जब तक बच्चा समान्य न हो जाए, उसकी देखभाल हमारी जिम्मेदारी होती है।वहीं मानदेय कम होने के कारण हम कार्यकर्ताओं की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। बच्चों का वजन हमें मोबाइल से एंट्री करना होता है लेकिन मानदेय कम होने की वजह से नया मोबाइल भी नहीं ले सकते, इसलिए बहुत से मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने आगे बताया कि हमारी बहुत सी बहनें कम पढ़ी-लिखी हैं, जिन्हें इंग्लिश नहीं आती वे एंट्री कैसे करें? बच्चों का नाम, माता-पिता का नाम, वजन सब इंग्लिश में ही एंट्री करना होता है। पहले वजन त्यौहार में वजन लेकर रिपोर्ट अपने सुपरवाइजर को दे दिया जाता था वही एंट्री करते थे, ऑपरेटर के द्वारा एंट्री की जाती थी तो इतनी परेशानी नहीं होती थी। सरकार से आग्रह है कि हमारी समस्याओं का जल्दी निराकरण करें और हमारी लंबित मांगों को पूरा करें। मांगें :-

• हमें शासकीय कर्मचारी घोषित करें, तब तक कलेक्टर दर से मानदेय दिया जाए।

• वजन त्यौहार पर बच्चों की वजन का एंट्री सुपरवाइजरों से करवाई जाए।

• सुपरवाइजर पद पर भर्ती के लिए तत्काल आयु सीमा के बंधन हटाकर कार्यकर्ता को लिया जाए।

Next Story