Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दो साल बाद व्यापम ने ली राज्य स्तरीय शिक्षक पात्रता परीक्षा, एक लाख अभ्यर्थी गैरहाजिर

शिक्षक पात्रता परीक्षा होने के कारण अधिकतर सवाल शिक्षा व शैक्षणिक गतिविधियों से ही संबद्ध रहे। सीखने की प्रक्रिया, पाठ्यक्रम निर्माण की प्रक्रिया, बालकों का बौद्धिक विकास, आक्रामकता का कारण, नैतिक विकास का सिद्धांत जैसे सवाल शामिल रहे। हालांकि पर्यावरण के अंतर्गत पूछे गए सवाल रोचक रहे। आम को लंबे समय तक संरक्षित रखने के उपाय, पक्षियों के गर्दन हिलाने का कारण, पोलियो वैक्सीन व पायरिया रोग से जुड़े सवाल इसका हिस्सा रहे। पढ़िए पूरी खबर..

दो साल बाद व्यापम ने ली राज्य स्तरीय शिक्षक पात्रता परीक्षा, एक लाख अभ्यर्थी गैरहाजिर
X

रायपुर: छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मंडल ने रविवार को राज्य शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन किया। दो पालियों में यह परीक्षा हुई। पहली पाली में सुबह 9.30 से 12.15 तक पहली से पांचवीं कक्षा तक अध्ययन पात्रता के लिए परीक्षा हुई। दूसरी पाली में दोपहर 2 से 4 बजे तक छठवीं से आठवीं कक्षा तक अध्ययन पात्रता के लिए परीक्षा हुई। दोनों परीक्षाओं को मिलाकर 1 लाख 4 हजार 696 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे। रायपुर सहित जिन जिलों में कोरोना संबंधित पाबंदियां लगी हुई हैं, वहां भी व्यापम ने परीक्षाएं आयोजित कीं। गौरतलब है कि व्यापम द्वारा राज्य शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए 2020 की शुरुआत में आवेदन मंगाए गए थे। कोरोना संक्रमण के कारण परीक्षाएं स्थगित कर दी गई थीं। संक्रमण थमने के बाद 2022 में दो वर्ष पश्चात परीक्षा लेने का फैसला लिया गया। जिन कैंडिडेट्स ने 2020 में आवेदन किया था, उनके अलावा अन्य व्यक्तियों को भी इसमें शामिल होने का मौका दिया गया। 2020 में आवेदन न कर सकने वालों के लिए बीते माह फिर से पोर्टल खोला गया था।

प्राथमिक-माध्यमिक के लिए 983 केंद्र

परीक्षार्थियों की संख्या को देखते हुए व्यापम द्वारा सैकड़ों की संख्या में परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। प्राथमिक स्तर की पात्रता परीक्षा के लिए रायपुर के 40 केंद्रों सहित प्रदेश में 531 सेंटर बनाए गए थे। इसके लिए 1 लाख 70 हजार 150 कैंडिडेट्स ने आवेदन किया था। इनमें से 65.64 प्रतिशत अर्थात 1 लाख 11 हजार 682 ही उपस्थित हुए। माध्यमिक कक्षाओं के लिए 1 लाख 42 हजार 405 आवेदन मिले थे। इसके लिए रायपुर में 34 व छत्तीसगढ़ में 452 केंद्र निर्धारित किए गए थे। आवेदनकर्ताओं में से 96 हजार 177 अर्थात 67.54 परीक्षार्थी ही शामिल हुए।

आम को संरक्षित रखने के उपाय पर पूछा सवाल

शिक्षक पात्रता परीक्षा होने के कारण अधिकतर सवाल शिक्षा व शैक्षणिक गतिविधियों से ही संबद्ध रहे। सीखने की प्रक्रिया, पाठ्यक्रम निर्माण की प्रक्रिया, बालकों का बौद्धिक विकास, आक्रामकता का कारण, नैतिक विकास का सिद्धांत जैसे सवाल शामिल रहे। हालांकि पर्यावरण के अंतर्गत पूछे गए सवाल रोचक रहे। आम को लंबे समय तक संरक्षित रखने के उपाय, पक्षियों के गर्दन हिलाने का कारण, पोलियो वैक्सीन व पायरिया रोग से जुड़े सवाल इसका हिस्सा रहे।

Next Story