Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

63 दिनों बाद फिर कोरोना 850 के पार, रायपुर-दुर्ग जिले में ताबड़तोड़ केस

प्रदेश में कोरोना जनवरी वाली स्थिति में आ गया है और 63 दिन बाद यहां 856 मामले सामने आए हैं। प्रदेश में कोरोना की वापसी की वजह रायपुर और दुर्ग जिला है, जहां आधे से ज्यादा केस मिल रहे हैं। मरीज बढ़ने की वजह से एक्टिव मरीज 46 सौ से ज्यादा हो गए हैं, जिससे तीन अस्पतालाें में संख्या बढ़ गई है और जरूरत होने पर रिजर्व में रखे दो और अस्पताल खोले जा सकते हैं।

हिमाचल प्रदेश की सोलन कारागार में 65 कैदी निकले कोरोना पॉजिटिव, जेल अधीक्षक ने दी जानकारी
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

रायपुर. प्रदेश में कोरोना जनवरी वाली स्थिति में आ गया है और 63 दिन बाद यहां 856 मामले सामने आए हैं। प्रदेश में कोरोना की वापसी की वजह रायपुर और दुर्ग जिला है, जहां आधे से ज्यादा केस मिल रहे हैं। मरीज बढ़ने की वजह से एक्टिव मरीज 46 सौ से ज्यादा हो गए हैं, जिससे तीन अस्पतालाें में संख्या बढ़ गई है और जरूरत होने पर रिजर्व में रखे दो और अस्पताल खोले जा सकते हैं।

फरवरी माह में जो केस सामने आ रहे थे, उससे ऐसा लग रहा था कि वायरस ढलान की स्थिति पर आ गया है, मगर चिकित्सक इस बात की ताकीद करते रहे कि लोगों को अभी भी सावधान रहने की आवश्यकता है। लोगों ने इसे अनसुना कर दिया और जमकर लापरवाही की। इसके साथ ही क्रिकेट स्टेडियम में नियमों की धज्जियां उड़ा दी गईं और प्रदेश में कोरोना विस्फोट का दौर शुरू हो गया, जो अब तक जारी है। प्रदेश में 11 जनवरी को 853 मामले सामने आए थे और उसके बाद कोरोना का आंकड़ा इतना ऊपर नहीं गया था, मगर मार्च के दूसरे पखवाड़े में प्रदेश फिर उसी स्थिति में आ चुका है।

प्रदेश में वर्तमान में कोरोना की जांच भी बड़ी संख्या में हो रही है, जिसकी वजह से केस भी सामने आ रहे हैं। रायपुर और दुर्ग जिला तो कोरोना का गढ़ बन गया है और यहां लगातार मामले बढ़ते जा रहे हैं। शुक्रवार को रायपुर जिले में कोरोना ने तीन सौ का आंकड़ा पार कर दिया, वहीं दुर्ग में 233 के करीब मामले सामने आएं हैं। रायपुर में एक्टिव केस 1300 और दुर्ग में 1283 हो गए हैं, जिसकी वजह के अस्पताल में पहुंचने वाले मरीज भी बढ़ गए हैं। वहीं बिलासपुर में 56, सरगुजा में 42 तथा धमतरी 30 राजनांदगांव में 27 तथा रायगढ़ में 24 मामले सामने आए हैं। पिछले चौबीस घंटे में प्रदेश में आठ लोगों की मौत हुई, वहीं चार पुरानी मौत को भी आंकड़े भी इसमें दर्ज किए गए हैं। प्रदेश में 266 के ठीक होने के बाद एक्टिव मरीज 4661 हो गए हैं।

डीआरएम दफ्तर में 6 पाॅजिटिव

रायपुर रेलमंडल के मुख्य कार्यालय के वरिष्ठ मंडल कार्मिक विभाग में छह लोगों को कोरोना संक्रमित पाया गया है। जो पॉजिटिव पाए गए हैं, उनमें दो महिला कर्मचारी भी शामिल हैं। कोरोना केस सामने आने के बाद कार्यालय में हड़कंप मच गया, वहीं ऐहतियात बरतते हुए कार्यालय को सेनेटाइज कराया गया है।

भीड़भाड़ से बचें : सिंहदेव

कोरोना की बढ़ती रफ्तार से चिंतित स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने आम जनता के लिए संदेश जारी कर भीड़भाड़ वाले आयोजन से बचने की अपील की है। टीएस ने कहा कि मैं स्वस्थ हो गया हूूं। वर्तमान में प्रत्येक 100 की जांच में 1.6 कोरोना पॉजिटिव मिल रहे हैं, मगर हालात सितंबर जैसे नहीं हुए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार स्थिति पर नजर रखे हुए है, मगर लोगों को अपनी सुरक्षा का खुद ध्यान रखना चाहिए। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि वैक्सीन लगवाने के बाद भी सावधानी बरतना जरूरी है। वैक्सीनेशन के 42 दिन बाद ही एंटीबॉडी विकसित होने का पता चलता है, इसलिए ज्यादा सावधानी बरतने की आ‌वश्यकता है। स्वास्थ्य मंत्री ने आम लोगों से मास्क लगाए रखने, बार-बार हाथ धाेने और शारीरिक दूरी का पालन करने का आग्रह किया है।

और पढ़ें
Next Story