Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

100 करोड़ के 60 साल पुरानी 50 मेगावाट की चार यूनिट का कबाड़ 75 करोड़ में बिका

छत्तीसगढ़ राज्य पाॅवर उत्पादन कंपनी के कोरबा ईस्ट के 50 मेगावाट की चार यूनिट को 75 करोड़ में कबाड़ में बेचा गया है। इनको बनाने में करीब 60 साल पहले सौ करोड़ की लागत लगी थी। इस संयंत्र में 120 मेगावाट की चार दशक पुराने दो यूनिट भी नए साल से बंद हैं। इनको बनाने में करीब 240 करोड़ की लागत लगी थी। अब इनको भी निविदा निकालकर कबाड़ में बेचने की तैयारी है। कोरबा में सबसे पुरानी 50 मेगावाट की चार इकाइयां 1962 में बनाई गई थी। इनको रशिया की मदद से बनाया गया था।

100 करोड़ के 60 साल पुरानी 50 मेगावाट की चार यूनिट का कबाड़ 75 करोड़ में बिका
X

रायपुर. छत्तीसगढ़ राज्य पाॅवर उत्पादन कंपनी के कोरबा ईस्ट के 50 मेगावाट की चार यूनिट को 75 करोड़ में कबाड़ में बेचा गया है। इनको बनाने में करीब 60 साल पहले सौ करोड़ की लागत लगी थी। इस संयंत्र में 120 मेगावाट की चार दशक पुराने दो यूनिट भी नए साल से बंद हैं। इनको बनाने में करीब 240 करोड़ की लागत लगी थी। अब इनको भी निविदा निकालकर कबाड़ में बेचने की तैयारी है। कोरबा में सबसे पुरानी 50 मेगावाट की चार इकाइयां 1962 में बनाई गई थी। इनको रशिया की मदद से बनाया गया था।

पाॅवर कंपनी से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक जब इन यूनिटों की स्थापना की गई थी, तब एक मेगावाट पर खर्च 50 लाख के करीब आता था। ऐसे में एक अनुमान के मुताबिक चार यूनिटों को बनाने में करीब सौ करोड़ खर्च हुए थे। इनको दो साल पहले 2018 में ही बंद कर दिया गया था। इन इकाइयों का कोई लेवाल न होने के कारण इनको निविदा निकालकर अब जाकर कबाड़ में बेचा गया है। इनको लेने वाली कंपनी को तीन-तीन माह का पांच बार समय दिया गया है कि इतने समय में कंपनी यूनिटों को काटकर निकाल ले।

अब बेचेेंगे 120 मेगावाट की यूनिट

पावर कंपनी ने 50 मेगावाट की चार इकाइयों के बाद 120 मेगावाट की दो यूनिट को भी बंद कर दिया है। जब चार दशक पहले इनको बनाया गया था, तब उस समय एक मेगावाट पर एक कराेड़ खर्च आता था। ऐसे में 120 मेगावाट की दो यूनिट बनाने पर 240 कराेड़ खर्च होने का अनुमान है। इनको बेचने के लिए पावर कंपनी निविदा जारी करेगी। इन यूनिटों के सौ करोड़ से ज्यादा में जाने का अनुमान है। ये यूनिट भी फिर से प्रारंभ नहीं किए जा सकते, इसलिए इनको भी कबाड़ की कीमत पर ही बेचना पड़ेगा।

निविदा जारी कर बेेचेंगे

पुरानी यूनिट तो 75 करोड़ में बिक चुकी हैं। अब नए साल से बंद 120 मेगावाट की दो इकाइयों को बेचने के लिए निविदा जारी करेंगे।

- एनके बिजौरा, एमडी, उत्पादन कंपनी

Next Story