Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आधार, पैन कार्ड और बैंक खाते के साथ खुद को अपडेट कराने थाने पहुंचे 500 बदमाश

दिनभर लगा मेला, थानों के रजिस्टर में दशकों पुराने बदमाशों की नई फोटो लगाई गई

आधार, पैन कार्ड और बैंक खाते के साथ खुद को अपडेट कराने थाने पहुंचे 500 बदमाश
X

रायपुर. राजधानी के थानों में रविवार को बदमाशों का मेला लगा। आधार कार्ड, पेनकार्ड के साथ थानों में उनकी जानकारी अपडेट की गई। दिनभर में तकरीबन पांच सौ बदमाशों का रिकार्ड दुरुस्त किया गया। गौरतलब है, शहर में घोषित पांच सौ गुंडे-बदमाशों पर नकेल कसने एसएसपी अजय यादव ने नए सिरे से उनकी पहचान और करीबियों के बारे में जानकारी जुटाने सभी थानों को निर्देश दिए हैं। एसएसपी के निर्देश के बाद पुलिस ने हिस्ट्रीशीटरों को रविवार को थानों में अपनी पूरी जानकारी साथ लेकर आने के लिए कहा था। पुलिस का फरमान मिलते ही गुंडे-बदमाश अपनी उपस्थिति दर्ज कराने थाने पहुंचे। जहां पुलिस ने हिस्ट्रीशीटरों की पहचान संबंधी पूरी जानकारी नए सिरे से अपडेट की।

एएसपी ग्रामीण तारकेश्वर पटेल के मुताबिक थानों में 377 गुंडे-बदमाश नए सिरे से अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए पहुंचे। साथ ही इन गुंडे-बदमाशों से उनकी पारिवारिक स्थिति से लेकर करीबी लोगों के बारे में जानकारी एकत्रित की गई। साथ ही इन हिस्ट्रीशीटरों का आधारकार्ड, पेनकार्ड थानों के रजिस्टर में नए सिरे से लिंक किया गया। इसके साथ ही गुंडे-बदमाशों की संपत्ति के बारे में जानकारी जुटाई गई कि वर्तमान में वे क्या काम कर रहे हैं। किसी के यहां नौकरी कर रहे हैं। कब-कब बाहर गए। किन-किन बाहरी लोगों के संपर्क में आए। जिनके संपर्क में आए, उनसे क्या बातचीत हुई, किस प्रयोजन से संपर्क में आए, इन सब बातों की बारीकी से पड़ताल की गई।

अकाउंट में लाखों, नहीं बता पाए आय का श्रोत

पुलिस अफसरों ने ऐसे बदमाश, जिनके बैंक अकाउंट हैं, उन्हें अपना बैंक अकाउंट और बैंक डिटेल लाने के लिए निर्देशित किया था। कोतवाली, सिविल लाइंस सहित कई थानों में पहुंचे बदमाश अपने बैंक खाते की जानकारी लेकर पहुंचे थे। कई हिस्ट्रीशीटरों के अकाउंट में लाखों रुपए हैं। पूछताछ में बदमाशों से उस आय के बारे में पुलिस ने पूछताछ की तो बदमाश आय के श्रोत के बारे में नहीं बता पाए। इसमें वे बदमाश शामिल थे, जो नशे का कारोबार करते हैं या फिर सट्टा-पट्टी का काम करते थे।

पुलिस के डर से कई बदमाशों ने पहचानपत्र नहीं बनवाया

थानों में उपस्थिति दर्ज कराने पहुंचे कई बदमाशों ने अब तक अपना आधारकार्ड नहीं बनवाया है। आईडी नहीं बनवाने वाले बदमाशों को पुलिस ने सख्त चेतावनी देते हुए उन्हें एक महीने के भीतर आधारकार्ड जमा कराने के लिए निर्देशित किया है। आधारकार्ड नहीं बनवाने पर उनके खिलाफ कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। आईडी नहीं बनवाने वाले बदमाशों से पूछने पर बताया कि आधारकार्ड रहने से पुलिस उन्हें आसानी से पकड़ सकती है, इसलिए उन लोगों ने अब तक नहीं बनवाया।

फोटो, फिंगरप्रिंट अपडेट

कई ऐसे हिस्ट्रीशीटर भी थानों में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने पहुंचे, जो दशकों पूर्व अपराध की दुनिया में थे और वर्तमान में मुख्यधारा में शामिल हो गए हैं, या फिर जो अभी भी अपराधिक घटनाओं में लिप्त हैं, लेकिन उनका रिकार्ड अपडेट नहीं हुआ है। ऐसे हिस्ट्रीशीटरों की पुरानी फोटो को अपडेट करते हुए वर्तमान फोटो लगाए गए हैं, जिसमें उनके बाल झड़ गए हैं या अधेड़ दिख रहे हैं। साथ ही फिंगरप्रिंट को नए सिरे से अपडेट किया है।

एक क्लिक में मिलेगी जानकारी

हिस्ट्रीशीटरों की जो नई लिस्ट अपडेट की गई है, उसे कंप्यूटर पर साॅफ्टवेयर में अपलोड किया जाएगा। इसके बाद रायपुर के साथ पूरे देश की पुलिस जरूरत पड़ने पर हिस्ट्रीशीटरों की जानकारी एक क्लिक पर हासिल कर सकते हैं। इसी वजह से गुंडे-बदमाशों की नए सिरे से लिस्टिंग के निर्देश एएसपी ने दिए हैं।

हिस्ट्रीशीटरों पर नकेल कसने नए सिरे से लिस्टिंग की गई है। हिस्ट्रीशीटरों के आधार, पेनकार्ड के साथ उनके करीबियों और पारिवारिक जानकारी को नए सिरे से अपडेट किया गया है। साथ ही उनका वर्तमान स्टेटस क्या है, इस संबंध में जानकारी ली गई है।

- तारकेश्वर पटेल, एएसपी ग्रामीण

Next Story