Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

चार दिन में 10 करोड़ की शराब बुक, सप्लाई आधी

शराब के हर दिन बढ़ रहे शौकीनों की भीड़ से आबकारी के वेब पोर्टल का दम घुटने लगा है। सामान्य व्यवस्था के साथ शुरू किए गए पोर्टल में शौकीन इस कदर आर्डर बुक करा रहे हैं कि उनके लिए बोतलों की सप्लाई मुश्किल हो गई है। बुधवार से मोबाइल पर ऑन स्क्रीन ओटीपी दिखाने पर शराब बिक्री शुरू करनी पड़ी है।

चार दिन में 10 करोड़ की शराब बुक, सप्लाई आधी
X

शराब की दुकान (प्रतीकात्मक फोटो)

शराब के हर दिन बढ़ रहे शौकीनों की भीड़ से आबकारी के वेब पोर्टल का दम घुटने लगा है। सामान्य व्यवस्था के साथ शुरू किए गए पोर्टल में शौकीन इस कदर आर्डर बुक करा रहे हैं कि उनके लिए बोतलों की सप्लाई मुश्किल हो गई है। बुधवार से मोबाइल पर ऑन स्क्रीन ओटीपी दिखाने पर शराब बिक्री शुरू करनी पड़ी है। नई व्यवस्था में पोर्टल अब दस से ग्यारह बजे के बाद से या तो लिंक फेल हो रहा है या फिर शौकीनों के रजिस्ट्रेशन के बाद मैसेज मिल रहा है कि सप्लाई का कोटा फुल हो चुका है।

नई बुकिंग फिलहाल के लिए बंद है। सुबह कई शौकीनों ने आबकारी के पोर्टल पर जाकर ऑनलाइन आर्डर बुक कराने का प्रयास किया। पोर्टल के लिंक से फोन नंबर पर मैसेज प्राप्त हुआ कि जिले में आज के लिए पर्याप्त आर्डर आ चुके हैं अत: आज आपके जिले के लिए और आर्डर नहीं लिए जा रहे हैं। प्राप्त आर्डर्स की ही डिलीवरी चालू है। पहले दिन 4.30 करोड़ रुपये के शराब बिक्री के लिए एडवांस बुकिंग के बाद सप्लाई में ही आबकारी विभाग को पसीना छूट गया था। चार दिनों में दस करोड़ की बुकिंग हो चुकी है और इसमें से 50 प्रतिशत शौकीनों को ही बोतलें भेजी जा सकी है। बाकी पेंडिंग डिलीवरी का निपटारा करने के लिए भी आबकारी अफसरों को परेशान होना पड़ा था। प्लेसमेंट कर्मियों के भरोसे होम डिलीवरी की व्यवस्था पहले दिन से गड़बड़ा गई थी।

रसूखदारों की कालाबाजारी भी

शहर में 950 रुपये की रेंज वाली शराब के लिए जमकर कालाबाजारी चल रही है। करीबी सूत्र के मुताबिक 4-4 बोतलों के आर्डर बुक कराने के बाद कई तुरंत के तुरंत इसे किसी और को 2 से 3 सौ रुपये एक्स्ट्रा चार्ज लेकर कारोबार करने में लगे हैं। ज्यादातर रसूखदारों के खाते से ओटीपी जनरेट होने के बाद उसकी कालाबाजारी हो रही है।

कर्मचारियों का भी बड़ा खेल

कई दुकानों में कर्मचारियों की तरफ से भी तगड़ी कमीशनबाजी के कारण पेटियां निकाले जाने की चर्चा है। शंकरनगर और तेलीबांधा की दुकानों में भी बुधवार को शराब की पेटी निकाले जाने हल्ला मचा रहा। हालांकि अधिकारिक तौर पर इसकी किसी ने पुष्टि नहीं की। शौकीनों की भीड़ से दूर कमीशन में ही शराब बिक्री हुई।

अब धीरे-धीरे च्वाइस खत्म

शराब दुकानों में च्वाइस की शराब अब खत्म हो गई है। स्टॉक की पर्याप्त सप्लाई नहीं हो पाने के कारण सेमी ब्रांड शराब की बोतलें नहीं मिल रही हैं। चलन वाली शराब की बोतलें खत्म होने के बाद दूसरा ऑप्शन महंगा होने की वजह से भी शौकीन परेशान हैं। होली के बाद से शराब दुकानों में सप्लाई रोकी गई है, इससे दिक्कतें हैं।


Next Story