Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

स्वीडन से स्वाति पराशर ने मांगी सीएम नीतीश कुमार से मदद, खबर पढ़कर जानें पूरा मामला

स्वीडन से स्वाति पराशर ने सोशल मीडिया के जरिए बिहार के सीएम नीतीश कुमार से मदद की गुहार लगाई है। मधुबनी में उनकी पुश्तैनी जमीन पर लाल झंडे लिए कुछ लोगों ने जबरन अतिक्रमण रखा है। मौके पर कार्रवाई करने पहुंची पुलिस पर भी अतिक्रमण करने वालों ने हमला बोल दिया।

Swati Parashar Seeking help to CM Nitish Kumar for Land dispute minister sanjay kumar jha gave assurance Madhubani news
X

स्वाति पराशर

स्वीडन (Sweden) से स्वाति पराशर (Swati Parashar) ने गुरुवार को ट्वीट कर बिहार के सीएम नीतीश कुमार से मदद की गुहार लगाई। स्वाति पराशर के पिता की बिहार के मधुबनी (Madhubani) में उनकी पुश्तैनी जमीन है। इस जमीन पर कुछ लोगों ने लाल झंडे लिए जबरन अतिक्रमण (Encroachment) कर लिया है। मामले की शिकायत पुलिस से की गई। पुलिस (Police) मौके पर जमीन को अतिक्रमण मुक्त कराने के लिए पहुंची। लेकिन इन अतिक्रमणकारियों ने पुलिस के ऊपर भी ईंट-पत्थर और लाठी-डंडों से हमला बोल दिया। इस घटना के बाद स्वाति पराशर ने ट्वीट कर सीएम नीतीश कुमार से मदद मांगी। वहीं जदयू नेता एंव बिहार सरकार में मंत्री संजय कुमार झा ने ट्वीट कर स्वाति पराशर को मदद का भरोसा दिया है।

मंत्री संजय कुमार झा ने (Minister Sanjay Kumar Jha) स्वाती के ट्वीट का ट्वीट के जरिए जवाब देते हुए लिखा कि 'स्वाति जी, आपके मामला पर हमने संज्ञान लिया है। हमने इसको लेकर मधुबनी के डीएम अमित कुमार से बातचीत की है। साथ इस मामले पर डीएम से ध्यान देने के लिए कहा गया है।

स्वाति पराशर ने भी मंत्री संजय कुमार झा के इस ट्वीट का जवाब देते हुए स्वाति ने लिखा कि ऐसा जन प्रतिनिधियों को आम लोगों को आश्वस्त करने के लिए करना चाहिए। जिससे उन्हें सुना जा रहा है। यह देखकर थोड़ी राहत महसूस हुई। स्वाति पराशर ने इसको लेकर संजय कुमार झा को धन्यवाद भी दिया।

स्वाति पराशर के पिता से जुड़ा है पूरा मामला

स्वाति पराशर के पिता का नाम अरविंद झा है और बिहार के मधुबनी जिले में इनका पैतृक गांव है। स्वाति पराशर के पिता इन दिनों मधुबनी स्थित अपने पैतृक गांव लौटे हैं। पिता के साथ गांव में उनके बेटे भी पहुंचे हैं। उनके बेटे दिल्ली स्थित एक मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी करते थे। इनके बेटे ने अब वो नौकरी छोड़ दी है और गांव आ गए हैं। ये दोनों पिता-पुत्र मधुबनी स्थित अपनी पुश्तैनी जमीन पर ऑर्गेनिक फार्मिंग व मखाने का कारोबार शुरू करना चाहते हैं। इससे वो स्थानीय लोगों को भी रोजगार उपलब्ध कराना चाहते हैं। मधुबनी के पंडौल में अरविंद झा की करीब 10 एकड़ जमीन है। उनकी इस जमीन पर दबंगों ने अवैध रूप से कब्जा जमा रखा है।

प्रोफेसर स्वाति पराशर के बारे में जानें

आपको बता दें स्वाति पराशर का लालन-पोषण रांची में हुआ है। जो इन दिनों झारखंड राज्य की राजधानी है। स्वाति पराशर के पिता रांची में ही पदस्थापित थे। वैसे उनके पिता का जन्म बिहार के मधुबनी जिले में हुआ था। वो इन दिनों स्वीडन के गोथेनबर्ग यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं। स्वाति स्कूल ऑफ ग्लोबल स्टडीज में शांति और विकास विषय पढ़ाती हैं। इससे पहले स्वाति पराशर आस्ट्रेलिया की यूनिवर्सिटी में पढ़ाती थीं। इसके अलावा स्वाति पराशर विभिन्न मुद्दों पर लेख लिखती रहती हैं। इन लेखों में खासकर की महिलाओं से जुड़े मुद्दे होते हैं।

Next Story