Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सुशांत सिंह राजपूत मामला: मुंबई पुलिस कमिश्नर ने बिहार पुलिस के अधिकार क्षेत्र पर उठाया सवाल

मुंबई पुलिस कमिश्नर परम बीर सिंह ने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में असहयोग का कोई सवाल नहीं है। साथ ही उन्होंने मामले के संबंध में मुंबई पहुंची बिहार पुलिस के अधिकार क्षेत्र पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि अगर मामले की जांच से बिहार पुलिस का संबंध है तो सिद्ध करें।

sushant singh rajput case mumbai police commissioner raised questions on the jurisdiction of bihar police
X
मुंबई पुलिस कमिश्नर परम बीर सिंह

मुंबई पुलिस कमिश्नर परम बीर सिंह ने सोमवार को सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले को लेकर प्रेस वार्ता की। जहां उन्होंने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में असहयोग का कोई सवाल नहीं है। हम कानूनी तौर पर जांच कर रहे हैं कि मामले में बिहार पुलिस का अधिकार क्षेत्र है या नहीं है। इसके बाद उन्होंने कहा कि यदि बिहार पुलिस को अधिकार क्षेत्र मिल गया है तो बिहार पुलिस को यह साबित करना चाहिये।

मुंबई पुलिस कमिश्नर ने बताया कि बिहार पुलिस की एफआईआर में कहा गया है कि सुशांत के खाते से 15 करोड़ रुपये निकाले गए। जांच के दौरान, हमने पाया कि उनके खाते में 18 करोड़ रुपये हैं, जिनमें से लगभग 4.5 करोड़ रुपये अभी भी हैं। अब तक रिया चक्रवर्ती के खाते में कोई प्रत्यक्ष हस्तांतरण नहीं मिला है, फिर भी जांच की जा रही है। मुंबई पुलिस कमिश्नर ने बताया कि अब तक 56 लोगों के बयान दर्ज किए गए हैं। मामले में सभी कोणों से जांच की जा रही है कि यह एक आपराधिक वारदात तो नहीं है, वित्तीय लेनदेन या स्वास्थ्य से जुड़ा मामला तो नहीं है।

सुशांत के परिवार ने पहले नहीं जताया था कोई संदेह

मुंबई पुलिस कमिश्नर परम बीर सिंह ने बताया कि सुशांत के पिता, बहन और जीजा का बयान 16 जून को दर्ज किया गया था। उस समय, उन्होंने कोई संदेह नहीं उठाया और न ही उन्होंने हमारी जांच में किसी चूक के बारे में शिकायत की थी। उन्होंने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में मुंबई पुलिस द्वारा 56 लोगों से की गई पूछताछ में रिया चक्रवर्ती भी शामिल है। उसका बयान दो बार दर्ज किया गया और उसे कई बार पुलिस स्टेशन बुलाया गया। उन्होंने कहा कि मैं उसके ठिकाने के बारे में टिप्पणी नहीं कर सकता।



मामले से किसी राजनेता का संबंध नहीं है : मुंबई पुलिस

मुम्बई पुलिस कमिश्नर परम बीर सिंह ने कहा कि जांच के दौरान किसी राजनेता का नाम सामने नहीं आया। किसी भी पार्टी के किसी भी राजनेता के खिलाफ कोई सबूत नहीं है। उन्होंने कहा कि यह बात सामने आई है कि उसे बाइपोलर डिसऑर्डर था, उसका इलाज चल रहा था और इसके लिए दवाइयां ली जा रही थीं। उनकी मौत के कारण किन परिस्थितियों में हमारी जांच का विषय है।




Next Story