Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मौसम की जानकारी : बाढ़ की वजह से बागमती का सुरक्षा बांध फिर से टूटा, सैकड़ों लोगों का जन-जीवन अस्त व्यस्त

मौसम की जानकारी : बिहार के निचले इलाकों में भारी बारिश व बाढ़ के कहर लोग बेहाल हैं। जानकारी है कि ईस्ट चंपारण 'मोतिहारी'-शिवहर स्टेट हाइवे पर बाढ़ का पानी ही पानी नजर आ रहा है। इसके अलावा बागमती का सुरक्षा बांध फिर टूट गया है। जिससे सैकड़ों लोगों का जन-जीवन अस्त व्यस्त हो गया है।

security dam of Bagmati broken again due to flood
X
बिहार के निचले इालकों में भारी बारिश और बाढ़ से जन - जीवन प्रभावित।

बिहार में भारी बारिश की वजह से विभिन्न नदियां उफान पर बह रही हैं। जानकारी के अनुसार बिहार के निचले विभिन्न जिलों में बाढ़ का पानी फिर फैल गया है। बताया जाता है कि शिवहर जिले के पिपराही प्रखंड में बेलवा इनरवा के पास मोतिहारी-शिवहर स्टेट हाईवे पर बाढ़ का पानी ही पानी नजर आ रहा है। राजमार्ग पर बह रहे पानी के बीच से होते हुये जान जोखिम डालते कर लोग गुजर रहे हैं। वहीं बताया जाता है कि बागमती नदी पर बना सुरक्षा बांध एक बार फिर से टूट गया है। जिससे आसपास के इलाकों के सैकड़ों परिवार बुरी तरह से प्रभावित हो गये हैं। साथ वे अपने लिये सुरक्षित स्थान खोज रहे हैं।

बिहार के कटिहार से जिलों में शुक्रवार की रात से ही भारी बारिश होने की खबरें आ रही हैं। जानकारी के अनुसार बिहार के अधिकांश इलाकों में इस समय मध्यम से भारी बारिश हो रही है। कटिहार जिले में शुक्रवार की रात से चल रही भारी बारिश की वजह से विभिन्न जगहों पर भीषण जल जमाव की स्थिति पैदा हो गयी है। जानकारी के आधार पर कटिहार जिले में शुक्रवार की रात से मूसलाधार बारिश हो रही है। बताया जाता है कि जिले में स्थित समाहरणालय और अनुमंडल कार्यालय में डेढ़ से दो फुट तक जल जमाव हो गया है।

बिहार के पश्चिम चंपारण जिले में भी बीते कई दिनों से बारिश होने की जानकारी मिल रही है। जहां भारी बारिश के कारण सैकड़ों लोगों का जन जीवन अस्त व्यस्त बताया जाता है। जिले के गौनाहा में गुरुवार को 132 मिलीमीटर से अधिक बारिश दर्ज की गई थी। रामनगर में 87 मिमी वर्षा। मौसम विभाग का दो दिनों तक के लिये जिले में भारी बारिश का है अलर्ट जारी किया था।

जानकारी के अनुसार गंडक नदी के जलग्रहण क्षेत्र में भारी बारिश के चलते जलस्तर में तेजी से बढोतरी हो रही है। बताया जाता है कि बीते दिनों वाल्मिकी नगर गंडक बराज से 04 लाख क्यूसेक से अधिक पानी छोडा गया था। बाढ की आशंका के मद्देनजर गोपालगंज और सारण को अलर्ट पर रखा गया है।

Next Story