Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पीएम नरेंद्र मोदी ने बिहार में नमामि गंगे मिशन के तहत 6 हज़ार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की दी सौगात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बिहार में शहरी विकास की 541 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का उद्घाटन किया। इसके अलावा पीएम मोदी द्वारा नमामि गंगे मिशन के तहत बिहार में 6 हज़ार करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाएं स्वीकृत की गई है।

pm narendra modi gifts 6 thousand crore rupees projects under namami gange mission in bihar
X
पीएम नरेंद्र मोदी ने बिहार को दी 6 हजार करोड़ रुपये की लागात की परियोजनाओं की सौगात।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को वर्चुअल माध्यम से बिहार में शहरी विकास की 541 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का उद्घाटन किया। पीएम मोदी ने कहा कि आज जो बेऊर और करम-लीचक की योजना का उद्घाटन हुआ है, उससे इस क्षेत्र के लाखों लोगों को लाभ होगा। इसके आलावा आज पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा नमामि गंगे मिशन के तहत बिहार में 6 हज़ार करोड़ से अधिक की परियोजनाओं को स्वीकृत दी गई। बिहार के सीएम नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी एवं अन्य वरिष्ठ पार्टी पदाधिकारी वर्चुअल माध्यमों से पीएम मोदी के कार्यक्रम से जुड़े रहे। इस मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि बिहार के लोगों का गंगा से बहुत ही गहरा नाता है। इसको ध्यान में रखते हुए ही बिहार में 6 हज़ार करोड़ से अधिक की परियोजनाएं स्वीकृत की गयीं। नमामि गंगे मिशन 'बिहार में गंगा नदी का कायाकल्प परियोजना' के तहत 6245 करोड़ रुपये की लगत वाली 54 परियोजनाओं को मंजूरी दी गई है। बताया गया कि बिहार में सीवेज ट्रीटमेंट क्षमता 10 गुना से अधिक बढ़ गई। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार का प्रयास है कि गंगा के किनारे बसे जितने भी शहर हैं। वहां गंदे नालों का पानी सीधे गंगा जी में गिरने से रोका जाए। इसके लिए अनेकों वॉटर ट्रीटमेंट प्लांटस् लगाए जा रहे हैं। आज जो बेऊर और करम-लीचक की योजना का उद्घाटन हुआ है। उससे इस क्षेत्र के लाखों लोगों को लाभ होगा। पीएम मोदी ने कहा कि गंगा जी को निर्मल और अविरल बनाने का अभियान जैसे-जैसे आगे बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे इसमें पर्यटन के आधुनिक आयाम भी जुड़ते जा रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि एक समय ऐसा आया। जब बिहार में मूल सुविधाओं के निर्माण के बजाय, प्राथमिकताएं और प्रतिबद्धतताएं बदल गईं। राज्य में गवर्नेंस से फोकस ही हट गया। इसका परिणाम ये हुआ कि बिहार के गांव पिछड़ते गए व जो शहर कभी समृद्धि का प्रतीक थे। उनका इंफ्रास्ट्रक्चर अपग्रेड हो ही नहीं पाया।

पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को वर्चुअल बैठक के दौरान कोरोना को लेकर भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि कोरोना की चुनौती के बीच बिहार में विकास और सुशासन का अभियान इसी तरह से चलने वाला है। हम पूरी ताकत, पूरे सामर्थ्य से इसी तरह आगे बढ़ने वाले हैं। लेकिन इसके साथ हर बिहारवासी और देशवासी को संक्रमण से बचाव का संकल्प कभी भी भूलना नहीं है।

पीएम ने बिहार को आत्मनिर्भर बनाने पर जोर दिया

पीएम मोदी ने बिहार को आत्मनिर्भर बनाने पर भी जोर दिया। पीएम मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर बिहार 'आत्मनिर्भर भारत' के मिशन को गति देने के लिए विशेषकर देश के छोटे शहरों को, भविष्य की जरूरतों के मुताबिक तैयार करना बहुत जरूरी है।

बिहार में मोबाइल इन्फ्रास्ट्रक्चर को लेकर भी की चर्चा

पीएम मोदी ने बिहार में मोबाइल इन्फ्रास्ट्रक्चर को लेकर भी बातचीत की। इस दौरान पीएम मोदी ने सिर्फ दो आंकड़े दिये। पीएम ने बताया कि 2014-15 में बिहार में 4.2 करोड़ मोबाइल थे। आज 2020 अगस्त में 6.21 करोड़ हैं। 2014-15 में इंटरनेट यूजर 80 लाख थे। आज 2020 में 3.93 करोड़ हो गए हैं।

डॉल्फिन प्रोजेक्ट से बिहार को बहुत लाभ होगा: नरेंद्र मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि अभी हाल में ही सरकार ने एक डॉल्फिन प्रोजेक्ट की घोषणा की है। इसका बहुत बड़ा लाभ गंगा डॉल्फिन को भी होगा। पटना से लेकर भागलपुर तक के क्षेत्र का विस्तार डॉल्फिन का निवास स्थान है। इसलिए डॉल्फिन प्रोजेक्ट से बिहार को बहुत लाभ होगा। उन्होंने बताया कि पटना से लेकर भागलपुर तक के क्षेत्र का विस्तार डॉल्फिन का निवास स्थान है। वहीं बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने बताया कि पूरे देश में डॉल्फिन की जो संख्या है। उसकी आधी बिहार में है। जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के मुताबिक बिहार में 1455 गांगेय डाल्फिन हैं।

पीएम मोदी ने नीतीश और सुशील मोदी की टीम की प्रशंसा

पीएम मोदी ने कहा कि बिहार में इतनी तेजी से काम होगा। काम शुरू होने के बाद पूरा भी होगा। इस बात की कल्पना भी डेढ़ दशक पहले नहीं की जा सकती थी। लेकिन नीतीश कुमार के प्रयासों ने केंद्र सरकार के प्रयासों ने ये सच कर दिखाया है। पीएम मोदी ने कहा कि बीते डेढ़ दशक से नीतीश कुमार, सुशील मोदी और उनकी टीम समाज के सबसे कमजोर वर्ग के आत्मविश्वास को लौटाने का प्रयास कर रही है। जिस प्रकार बेटियों की पढ़ाई को, पंचायती राज सहित स्थानीय निकाय में वंचित, शोषित समाज की भागीदारी को प्राथमिकता दी गई है।

Next Story