Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Patna: सुशील मोदी ने शहीद कैप्टन आशुतोष कुमार के पार्थिव शरीर पर पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित की

बिहार के पटना एयरपोर्ट पर भाजपा नेता सुशील मोदी ने आज बिहार के लाल शहीद कैप्टन आशुतोष कुमार के पार्थिव शरीर पर पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित की।

patna sushil modi paid tributes to mortal remains of martyr jawan
X

पटना में शहीद जवान को श्रद्धांजलि अर्पित करते भाजपा नेता सुशील मोदी।

जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकियों से लोहा लेते हुये बिहार के वीर सपूत कैप्टन आशुतोष कुमार बीते रविवार को शहीद हो गये। जानकारी के मुताबिक मंगलवार को बिहार के पटना एयरपोर्ट पर शहीद कैप्टन आशुतोष कुमार का पार्थिव शरीर लाया गया। जहां से उनके पार्थिव शरीर को उनके गृह जिले मधेपुरा के एक गांव ले जाया जायेगा।

बताया जाता है कि बिहार के डिप्टी सीएम एवं भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने आज पटना एयरपोर्ट पर पहुंच कर शहीद कैप्टन आशुतोष कुमार के पार्थिव शरीर पर पार्थिव शरीर पर पुष्पांजलि अर्पित कर अपनी ओर से भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने शहीद कैप्टन आशुतोष कुमार के शौर्य की भी सराहना की।



बिहार के स्वास्थ्य मंत्री एवं भाजपा नेता मंगल पाण्डेय ने भी पटना एयरपोर्ट पहुंच कर शहीद कैप्टन आशुतोष कुमार के साहस की प्रशंसा की। बताया जाता कि इस दौरान मंगल पाण्डेय ने भी पटना एयरपोर्ट पर देश के वीर सपूत, बिहार के लाल, शहीद कैप्टन आशुतोष कुमार के पार्थिव शरीर पर माल्यार्पण कर अपनी ओर से श्रद्धांजलि अर्पित की।

आपको बता दें, जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकियों से लोहा लेते वक्त बीते रविवार को बिहार के वीर सपूत कैप्टन आशुतोष कुमार समेत चार जवान शहीद हो गये। जानकारी के अनुसार कैप्टन आशुतोष कुमार समेत चारों जवानों ने शहीद होने से पहले कुपवाड़ा में तीन आतंकियों ढेर कर दिया। साथ ही इन सभी जवानों ने कुपवाड़ा में आतंकियों की घुसपैठ को नाकाम कर दिया। बीएसएफ के जवानों के साथ आतंकियों से यह मुड़भेड़ जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा सेक्टर के माछिल इलाके में हुई। शहीद कैप्टन आशुतोष कुमार मधेपुरा जिला के घैलाढ़ प्रखंड के भतरंधा परमानंदपुर पंचायत के जागीर टोला वार्ड-17 के रहने वाले बताये गये हैं। आशुतोष कुमार ने दो साल पहले ही बीएसएफ में नौकरी ज्वाइंन की थी। आशुतोष कुमार नौ महीने से बॉर्डर पर तैनात बताये जाते थे। आशुतोष कुमार के शहीद होने की सूचना उनके परिवार वालों को जैसे ही रविवार की शाम को लगी, उसके तुरंत बाद से पूरे गांव में शौक का माहौल है।

Next Story