Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पटना: NMCH के जूनियर डॉक्टर दूसरी बार हड़ताल पर गए, कोविड डेडिकेटेड अस्पताल में मचा हाहाकार

कोरोना संकट के बीच बिहार की राजधानी पटना में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है। पटना स्थित एनएमसीएच के गुस्साए डॉक्टर एक बार फिर से हड़ताल पर चले गए हैं। कोविड डेडिकेटेड अस्पताल एनएमसीएच में हाहाकार मच गया है।

Patna NMCH Junior doctors go on strike second time Ruckus in covid Dedicated Hospital
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

कोरोना (Corona) के कहर के बीच पटना (Patna) स्थित बिहार के दूसरे सबसे बड़े अस्पताल में सब कुछ समान्य नहीं है। संकट के समय में अस्पताल में भर्ती मरीजों की कठिनाइयां और अधिक बढ़ गई हैं। यह पूरा मामला एक मरीज की मौत के बाद हुए हंगामे से जुड़ा है। जानकारी के अनुसार एनएमसीएच (NMCH) में गुरुवार की रात को परिजनों ने ना सिर्फ मरीज की मौत पर जमकर बवाल काटा था। बल्कि अस्पताल परिसर में तोड़फोड़ भी की और डॉक्टरों के साथ हाथापाई भी की थी। इस हंगामे के बाद अधीक्षक के भरोसे पर 12 घंटे बाद जूनियर डॉक्टर (Junior doctor) काम पर शुक्रवार की सुबह को वापस लौट गए थे। साथ ही डाक्टरों की हड़ताल खत्म हो गई थी। लेकिन शुक्रवार को एक बार फिर से ईएनटी वार्ड में परिजनों ने दो डॉक्टर की पिटाई कर दी। इस वजह से एक बार फिर से अस्पताल में हंगामा होने लगा।

इस बात से नाराज डॉक्टर एक बार फिर से हड़ताल पर चले गए। जिससे कोविड डेडिकेटेड अस्पताल में स्थितियां बिगड़ गई हैं। दूसरी ओर अधीक्षक डॉ विनोद सिंह ने जिला प्रशासन पर आरोप लगाया है कि पटना जिलाधिकारी को पत्र लिखकर सुरक्षा की मांग करने के बाद भी 15 घंटे हो गए। लेकिन सुरक्षा नहीं मिली है। एनएमसीएच में सुरक्षा के नाम पर महज छह सिपाही तैनात किए गए हैं। अधीक्षक ने कहा कि हम ऐसी स्थितियों में अपने डॉक्टरों से काम नहीं ले सकते हैं। क्योंकि हमारे डॉक्टर ड्यूटी करें या पिटाई खाएं। इन हालातों के बीच अस्पताल चलाना संभव नहीं है। डीएम को लिखे पत्र में अधीक्षक ने हर शिफ्ट में कुल 20 पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति करने की मांग उठाई थी। यानि तीनों शिफ्ट में कुल मिलाकर 60 पुलिस बल मांगे थे। लेकिन अब सुरक्षा के लिए केवल 6 सुरक्षाबल मिले हैं। जो सुरक्षा की दृष्टि से नाकाफी हैं।

जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष रामचन्द्र ने चेतावनी देते हुए कहा कि जब तक एनएमसीएच में पर्याप्त पुलिस बल तैनात नहीं होती है, तब तक डाक्टरों की हड़ताल जारी रहेगी। हड़ताल के बाद पुलिस ने एक परिजन को हिरासत में ले लिया है। पुलिस उसको थाने लेकर गई है। आपको बता दें एनएमसीएच में करीब 400 कोरोना पॉजिटिव मरीज भर्ती हैं। लेकिन इस वक्त एनएमसीएच में भगवान भरोसे इलाज चल रहा है।

Next Story