Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

2 माह के बच्चे के पेट से निकाला गया सवा किलोग्राम का ट्यूमर, IGIMS में हुआ ये सफल ऑपरेशन

बिहार की राजधानी पटना स्थित आईजीआईएमएस ने किडनी ह्यूमार्टोमा से ग्रस्त दो महीने के बच्चे का सफल ऑपरेशन किया। जिसमें बच्चे के पेट से सवा किलोग्राम का ट्यूमर निकला है।

One and a quarter kilogram tumor removed from 2 month old baby stomach by pediatric surgery in igims patna
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

बिहार (Bihar) की राजधानी पटना (Patna) स्थित आईजीआईएमएस (IGIMS) से एक बहुत ही शानदार खबर निकलकर सामने आई है। बीते दिनों एक दो महीनों के एक बीमार बच्चे को उसके परिजन आईजीआईएमएस पटना (IGIMS Patna) लेकर पहुंचे। जहां में पता चला कि बच्चा किडनी ह्यूमार्टोमा बीमारी (Kidney Humartoma Disease) से ग्रस्त है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार फिर इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान पटना (आईजीआईएमएस) की शिशु रोग सर्जरी विभाग के चिकिस्तकों की टीम ने दो महीने के बच्चे के पेट का सफल ऑपरेशन किया। जिसमें बच्चे के पेट के अंदर से सवा किलोग्राम वजन का ट्यूमर निकाला गया। बताया जा रहा है कि ऑपरेशन के बाद दो माह का बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ है। साथ ही अगले दो-तीन दिनों के अंदर बच्चे को आईजीआईएमएस पटना से डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। पेडियाट्रिक सर्जरी विभाग के प्रभारी डॉ. विनीत कुमार ठाकुर की अगुवाई में इस सफल ऑपरेशन को किया गया। इनकी टीम में डॉ. रामधनी, डॉ. जहीर, डॉ. संदीप, डॉ. रामजी और डॉ. दिगंबर शामिल रहे।

पेडियाट्रिक सर्जरी विभाग के बताए अनुसार 4 किलोग्राम वजन का बच्चा किडनी ह्यूमार्टोमा से पीड़ित था। उन्होंने बताया कि यह कुल किडनी ट्सूमर का 3 प्रतिशत भाग होता है। यह बीमारी 12 वर्ष से कम उम्र के 10 हजार बच्चों में से को पाई जाती है। साथ ही उन्होंने कहा कि किसी भी बच्चे को ऐसे ट्यूमर व गांठ होने पर उनके माता-पिता को निराश नहीं होना चाहिए।

इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान पटना के अधीक्षक डॉ. मनीष मंडल ने कहा कि आईजीआईएमएस में इस प्रकार के ऑपरेशन के लिए सक्षम डॉक्टरों की टीम व उपकरण मौजूद हैं। उन्होंने बताया कि 10 दिन पूर्व नरपतगंज अररिया निवासी संगीता देवी अपने दो माह के बच्चे को गंभीर स्थिति में आईजीआईएमस में लेकर पहुंची थी। यहां बच्चे की जांच की गई। जिसमें पता चला कि बच्चे की बायीं किडनी में ट्यूमर है और ट्यूमर में रिसाव हो गया है। इसके बाद दो माह के बच्चे का ऑपरेशन करने का फैसला लिया गया।

Next Story