Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Bihar Assembly By-Election Result: नीतीश कुमार ने दोनों सीट जीतकर विरोधियों को दिया करारा जवाब

बिहार विधानसभा की दोनों सीटें जीतकर नीतीश कुमार ने अपने सियासी विरोधियों को करारा जवाब दिया है। वहीं राजद की दोनों सीटों पर हार हुई है।

Nitish Kumars party JDU won both Tarapur and Kusheshwarsthan assembly seats
X

 बिहार सियासत

नीतीश कुमार (Nitish Kumar) बिहार (Bihar) में अपने सियासी विरोधियों को करारा जवाब में कामयाब रहे हैं। बिहार विधानसभा उपचुनाव में नीतीश की पार्टी जदयू (JDU) ने दोनों विस सीटों पर जीत हासिल कर ली है। मुंगेर की तारापुर सीट और दरभंगा की कुशेश्वरस्थान विस सीट पर राजद (RJD) उम्मीदवारों जदयू के प्रत्याशियों के सामने हार का सामना करना पड़ा है। चुनाव से ठीक पूर्व लालू प्रसाद यादव के बिहार आ जाने व प्रचार-प्रसार में उतरने से उपचुनाव में नीतीश कुमार के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्र बन गया था। जदयू उम्मीदवार को कुशेश्वरस्थान विस सीट 12 हजार से ज्यादा मतों से जीत मिली है। पिछली बार के मुकाबले यहां दोगुने मतों से जीत मिली है। 2020 के विधानसभा चुनाव में जदयू ने यहां से छह हजार मतों से जीत हासिल की थी। वहीं तारापुर विधानसभा सीट पर जदयू को करीब 4000 मतों से विजह मिली है।

कुशेश्वरस्थान से जदयू प्रत्याशी अमन भूषण को मिली विजय

कुशेश्वरस्थान विस से जदयू उम्मीदवार अमन भूषण हजारी ने 12698 मतों से जीत पाई है। अमन कुशेश्वरस्थान के जदयू के पूर्व विधायक स्व. शशिभूषण हजारी के बेटे हैं। शशिभूषण हजारी के निधन के बाद कुशेश्वरस्थान सीट रिक्त हुई और और यहां उपचुनाव हुआ था। यहां चौथे राउंड तक राजद प्रत्याशी गणेश भारती आगे रहे थे।

तारापुर में जदयू और राजद के बीच अंतिम समय तक चली टक्कर

जानकारी के अनुसार तारापुर विधानसभा सीट पर मतगणना के दौरान अंतिम समय तक कांटे की टक्कर रही। आखिर में जदयू के राजीव कुमार ने राजद उम्मीदवार अरुण कुमार साह को 4 हजार मतों से हरा दिया। इस सीट पर जदयू लगातार तीन बार जीतने में सफल रही थी। वहीं अब उपचुनाव में जदयू ने इस सीट को जीतने के लिए पूरी ताकत लगा दी थी। सीएम नीतीश कुमार ने तारापुर विधानसभा क्षेत्र में तीन जनसभाएं की थीं। नीतीश कुमार के अलावा उनकी पार्टी कई मंत्रियों ने यहां ठेरा डाल रखा था। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह के क्षेत्र में होने की वजह से इस सीट से जदयू का जीतना अहम माना जा रहा है।

Next Story