Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रक्षाबंधन के दिन मजदूरी के चावल मांगने पहुंचे मजदूर की पीट-पीटकर हत्या, मामले की तफ्तीश में जुटी पुलिस

बिहार के नालंदा जिले में एक बड़ी ही सनसनीखेज हत्या की वारदात सामने आई है। यहां पर दबंगों ने पीट-पीटकर एक मजदूर की हत्या कर दी। हत्या की वारदात को मजदूरी मांगने के विरोध में अंजाम दिया गया। पुलिस पूरे मामले की जांच-पड़ताल में जुट गई है।

Labour killed for demanding rice for wages in Nalanda bihar crime news
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

बिहार (Bihar) के नालंदा (Nalanda) जिले से मानवता को शर्मसार कर देने वाली वारदात सामने आई है। यहां रक्षाबंधन के दिन अपनी मजदूरी के चावल मांगने पहुंचे मजदूर की दबंगों ने हत्या (laborer murdered) कर दी। यह दहला देने वाली वारदात नालन्दा जिले के चण्डी थाना इलाके स्थित बहादुरपुर की बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि धान रोपणी करने के बाद मजदूर अपनी मजदूरी के रूप में सिर्फ 10 किलो अनाज मांगने के लिए दबंगों के घर पहुंचा। इस पर बदमाशों ने पीट पीटकर मजदूर को मौत के घाट उतार दिया (worker was beaten to death by beating)।

मृतक पटना (Patna) जिला के दनियावां थाना क्षेत्र स्थित कुंडली गांव के रहने वाले सोमर रविदास का 25 वर्षीय बेटा उपेंद्र रविदास था। बताया जा रहा है कि वह रक्षाबंधन वाले दिन अपनी ससुराल चण्डी थाना क्षेत्र स्थित योगिया गांव आया हुआ था। वहीं मृतक के साला सिंकदर रविदास का कहना है कि करीब 15 दिनों पहले उन दोनों ने मिलकर बहादुरपर गांव के रहने वाले दिनेश महतो के खेत में धान की रोपणी की थी। इस मजदूरी के बदले हम दोनों को 10-10 किलो चावल देने का भरोसा दिया गया था। वहीं रक्षाबंधन वाले दिन यानी कि रविवार को दोनों जीजा-साले ने दिनेश के घर पर जाकर अपनी मजदूरी के चावल मांगे। इस पर दिनेश और उसके साथी आग बबूला हो गए। ये लोग दोनों मजदूरों के साथ गाली-गलौज करने लगे। इस बात का जीजा-साला ने विरोध जताया। इसपर इन दबंग लोगों ने दोनों मजदूरों को पकड़ लिया। साथ ही लाठी-डंडों से दोनों को पिटने लगे। वहीं मारपीट के बीच से किसी तरह भागकर साला सिकन्दर ने अपनी जान बचाने में सफल रहा।

दबंगों के चंगुल से छूटकर साला सिकन्दर सीधे पुलिस (Police) के पास पहुंचा। लेकिन वहां बदमाश उसके जीजा की पीट-पीटकर हत्या कर चुके थे। हत्या करने के बाद आरोपियों ने लाश को एक बोरे में बंद कर नदी में फेंक दिया। मामले की सूचना पर पुलिस गांव पहुंची। साथ ही पुलिस ने आरोपियों को अरेस्ट करने के लिए छापेमारी की। पर पुलिस के गांव पहुंचने से पहले ही बदमाश फरार हो चुके थे। सोमवार की सुबह जब गांव के लोग शौच करने के लिए गए तो उन्होंने वहां पर एक बोरा पड़ा हुआ देखा। तुरंत ग्रामीणों ने पूरे मामले की जानकारी पुलिस को दी। सूचना मिलने पर स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची। साथ ही पुलिसकर्मियों ने बंद बोरे को खोल कर देखा तो उसमें उपेंद्र का शव मिला।

मामले पर पुलिस ने बताया कि बहादुरपुर छिलका से मजदूर की लाश बरामद हुई है। हत्या का केस दर्ज कर लिया गया है। साथ ही पुलिस ने हत्या मामले में जांच-पड़ताल शुरू कर दी है। वहीं पुलिस ने बताया कि आरोपियों को दबोचने के लिए भी छापेमारी अभियान चल रहा है।

Next Story