Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सिर्फ 29 दिन बाद सत्तरघाट-छपरा मुख्य पथ ध्वस्त, राजद ने नीतीश के सुशासन पर उठाए सवाल

गंडक नदी में आई बाढ़ से बुधवार को छपरा- सत्तरघाट मुख्य पथ के पुल के समीप एप्रोच सड़क करीब 30 फीट में ध्वस्त हो गई। बीते 16 जून को सीएम नीतीश कुमार ने इसका उद्घाटन किया था। आज 29 दिन बाद यह पुल ध्वस्त हो गया।‬ जिसको लेकर राजद नेता तेजस्वी यादव ने बिहार के सुशासन पर सवाल उठाएं हैं।

just 29 days later satghat chhapra main road collapsed, rjd raised questions on nitish
X
छपरा- सत्तरघाट मुख्य पथ ध्वस्त

राजद नेता तेजस्वी यादव ने बताया कि सत्तरघाट-छपरा पथ करीब आठ वर्ष में 263.47 करोड़ की लागत से तैयार हुआ था। तेजस्वी यादव ने कहा कि विगत 16 जून को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस पथ का उद्घाटन किया था और आज 29 दिन बाद यह पुल ध्वस्त हो गया।‬ इसके बाद तेजस्वी यादव ने तंज कसा कि ‪ख़बरदार! अगर किसी ने इसे नीतीश जी का सुशासनी भ्रष्टाचार कहा तो? 263 करोड़ तो सुशासनी मुंह दिखाई है। इतने की तो इनके चूहे शराब पी जाते हैं।

जानकारी के अनुसार गंडक नदी में आई बाढ़ से बुधवार को छपरा- सत्तरघाट मुख्य पथ के पुल के समीप एप्रोच सड़क करीब 30 फीट में ध्वस्त हो गई। टूटी हुई सड़क से पकहां, शीतलपुर, उसरी, गम्हारी दियारा सहित अन्य विभिन्न गांवों में बाढ़ का पानी तेजी से जमा हो रहा है। इससे अब जमीदारी बांध पर भी खतरा मंडराने लगा है। मामले पर डीएम अरशद अजीज ने बताया कि एप्रोच सड़क हाल ही में बनाई गई थी। बाढ़ के पानी के दबाव के कारण एक हिस्सा धंसकर टूट गया है। पानी कम होने के बाद सड़क को दुरुस्त कराया जाएगा।

सत्तर घाट मुख्य पुल से करीब एक किलोमीटर पूर्व सड़क के टूट जाने से छपरा, सीवान, गोपालगंज जिलों से मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, सीतामढ़ी, शिवहर, दरभंगा का आवागमन ठप हो गया है। स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि लगातार हो रही बारिश से सड़क दलदली हो गई थी। इस बीच बाढ़ के पानी से टूट गई है। सड़क का निर्माण करीब छह महीने पूर्व कराया गया था।

स्थानीय विधायक मिथिलेश तिवारी ने पथ निर्माण मंत्री नन्द किशोर यादव से मामले की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की है। विधायक ने बताया कि पथ निर्माण मंत्री ने जांच कराकर दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।

यहां बता दें कि सत्तर घाट पुल का रास्ता बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसी पथ का चयन रामजानकी पथ में हुआ है। पुल के बन जाने से केसरिया से छपरा, सिवान, गोपलगंज, पटना व कुशीनगर की दूरी कम हो गई है।

Next Story