Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जीतन राम मांझी ने धर्मांतरण के पीछे बताई ये चौंकाने वाली वजह, बोले - यहां नहीं मिल रहा सम्मान

बिहार के गया जिले में विभिन्न लोग धर्मांतरण कर रहे हैं। वहीं बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने इसके लिए हिन्दू समाज को ही जिम्मेदार ठहराया है।

Jitan Ram Manjhi told discrimination prevalent in Hinduism as main reason for conversion bihar latest news
X

जीतन राम मांझी

बिहार (Bihar) में कमजोर तबके के विभिन्न लोग एक बड़े पैमाने पर लगातार धर्मांतरण (conversion) कर रहे हैं। वहीं अब बिहार में धर्मांतरण (conversion in bihar) का मुद्दा गरमा रहा है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक गया जिले के कई इलाकों में हिंदू धर्म छोड़कर लोग ईसाई धर्म को अपना रहे हैं। बताया जा रहा है कि गया के नैली पंचायत के दुबहल गांव के महादलित टोला समेत डोभी प्रखंड में मिशनरी प्रार्थना सभा में विभिन्न लोग भाग ले रहे हैं। वहीं सवाल उठता है कि क्या धर्मांतरण सही है? लोगों को प्रलोभन देकर धर्मांतरण कराया जा रहा है। जो निश्चित तौर पर गंभीर चिंता का मामला माना जा है। वहीं बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी (Former Bihar CM Jitan Ram Manjhi) ने इस धर्मांतरण के लिए अपने ही धर्म के अंदर व्याप्त भेदभाव को प्रमुख वजह बताया है। जीतन राम मांझी ने गया में पत्रकारों से बात करते वक्त बयान दिया कि जब अपने घर में सम्मान ना मिले तो परिवर्तन होना स्वाभाविक है।

पूर्व सीएम मांझी ने कहा कि अपने धर्म में व्याप्त भेदभाव ही धर्मांतरण की मुख्य वजह है। उन्होंने कहा कि जब लोगों को अपने घर में सम्मान नहीं मिलेगा तो वो निश्चित ही दूसरों के घरों में जाएंगे। साथ ही मांझी ने कहा कि धर्मांतरण से हिंदुस्तान की एकता पर कोई संकट नहीं है। उन्होंने कहा कि यह धर्मनिरपेक्ष देश है। यहां मन मुताबिक धर्म पालन करना और प्रचार करने की आजादी है। वहीं जीतन राम मांझी धर्म परिवर्तन को किसी तरह की समस्या का विषय नहीं मानते हैं।

मांझी ने कहा कि जब अपने घर में मान-सम्मान, इज्जत व मर्यादा नहीं मिले। वहीं अन्य जगह मान-सम्मान, इज्जत व मर्यादा मिल रही है तो ऐसी जगह लोग जाएंगे। घर के मालिक को यह समझने की कोशिश करनी चाहिए कि आखिर वे क्यों जा रहे हैं? उन्होंने कहा कि इस घर में उनका विकास संभव नहीं है। यहां छुआछूत की बात होती हैं। वहीं पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने यह बात भी कही कि वह किसी मंदिर में जाते हैं तो उन्हें मंदिर से निकलने के बाद मंदिर को धोया जाता है। इससे क्या समझा जाए?

Next Story