Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सीएम नीतीश बोले- JDU में नहीं है किसी तरह का विवाद, हमारे पत्र का पीएम मोदी से मिला ये जवाब

जनता दरबार के बाद बिहार की राजधानी पटना में सीएम नीतीश कुमार ने पत्रकारों से बातचीत की। सीएम ने बताया कि जातीय जनगणना को लेकर भेजे गए पत्र का पीएम नरेंद्र मोदी की ओर से जवाब मिल गया है। सीएम ने पार्टी में जारी विवाद की बातों को खारिज किया।

jdu news CM Nitish Kumar got reply from PM Narendra Modi on caste census letter bihar latest news
X

सीएम नीतीश कुमार

बिहार (Bihar) की राजधानी पटना (Patna) में सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar) सोमवार ने बताया कि जातीय जनगणना (caste census) को लेकर उन्होंने बीते दिनों पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के लिए पत्र (Letter) लिखा था। वहीं उन्होंने बताया कि उसी पत्र का जवाब उनको बीते 13 अगस्त को मिल गया। जवाब में पीएम नरेंद्र मोदी की ओर से कहा गया कि आपका पत्र उन्हें प्राप्त हो गया है। साथ ही सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री जब उचित समझेंगे, तब हमें मुलाकात के लिए समय देंगे। बिहार के मुख्यमंत्री ने कहा कि हम इंतजार कर रहे हैं। वहीं जदयू (JDU) के भीतर मतभेद होने के सवाल पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पार्टी में कहीं कोई विवाद नहीं है। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी में कोई शक्ति परीक्षण नहीं हो रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि जदयू में किसी तरह का मतभेद नहीं है। साथ कोई भ्रम ना पाले, हमारे दल में सबकुछ अच्छा है।

आपको बता दें सीएम नीतीश कुमार जनता दरबार खत्म होने के बाद पटना में मीडिया कर्मियों के साथ संक्षिप्त बातचीत कर रहे थे। उन्होंने इसी दौरान ये बातें कही। उन्होंने कहा कि जब पीएम नरेंद्र मोदी ने कह दिया कि आपका लेटर मिल गया। इस स्थिति में हम इंतजार करेंगे। जब पीएम मोदी से वक्त मिलेगा तो हम उनसे मुलाकात करने के लिए जाएंगे। वैसे अभी और तो इंतजार करना पड़ेगा। साथ ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आगे कहा कि आशा है कि वक्त मिलेगा। मसले पर पीएम मोदी से बात हो जाएगी, तब ही न इस पर कुछ आगे होगा।

वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि उनकी इच्छा है कि जातीय जनगणना हो। लेकिन यह करती तो केंद्र सरकार को ही है। एक बार यदि जाति आधारित जनगणना हो जाए तो बहुत ही ठीक रहेगा। वहीं उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की ओर से जातीय जनगणना कराने की बात है तो पहले इस मसले पर केंद्र सरकार से बातचीत हो जाए। उसके बाद ही आगे का कोई निर्णय लिया जाएगा।

Next Story