Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना, ब्लैक फंगस के साथ ही जलजनित बीमारियां बढ़ाने वाली हैं टेंशन, स्वास्थ्य विभाग ने कीं ये तैयारियां

कोरोना संक्रमण, ब्लैक फंगस व चमकी बुखार के साथ-साथ अब बिहार में जलजनित बीमारियां भी लोगों के परेशानियां बढ़ाने वाली हैं। वहीं मंगल पांडेय ने कहा कि इस सभी बीमारियों से एक साथ लड़ने के लिए स्वास्थ्य विभाग भी पूरी तरह से तैयार है।

Health department is ready to fight water borne diseases along with corona in Bihar black fungus news
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

बिहार (Bihar) में कोरोना संक्रमण (Corona Infection), ब्लैक फंगस (black fungus) और चमकी बुखार (Chamki fever) तो इन दिनों राज्य वासियों पर कहर बरपा ही रहे हैं। वहीं बारिश के मौसम के साथ ही बिहार में जलजनित बीमारियों का खतरा (risk of waterborne diseases) भी मंडराने लगा है। इस बीच बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय (health minister mangal pandey) का बयान सामने आया है।

मंगल पांडेय ने कहा है कि बिहार में स्वास्थ्य विभाग एक साथ कई मोर्चों पर जंग लड़ रहा है। कोरोना वायरस को नियंत्रित करने के साथ-साथ ब्लैक फंगस व चमकी बुखार से निपटने के लिए जहां स्वास्थ्य विभाग लगातार प्रयासरत है। वहीं स्वास्थ्य विभाग बरसात के मौसम में होने वाली बारिश से उत्पन्न जलजनित बीमारियों जैसे कालाजार, डायरिया, सर्दी जुकाम, टाइफाइड, फ्लू, मलेरिया व डेंगू को लेकर भी योजनाबद्ध तरीके से कार्य करने में जुटा हुआ है। स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि इसके लिए राज्य के सभी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पतालों के अलावे पीएचसी से लेकर अनुमंडलीय और जिला अस्पतालों में भी समय पूर्व जरूरी तैयारियां पूरी कर लेने का आदेश निर्गत किया गया है। साथ ही इन अस्पतालों में एंटी फंगल स्कीन क्रीम, एंटी डायरियल आईभी फ्लुड, ओआरएस, ब्लीचिंग पाउडर, हेलोजन टेबलट के अलावे सांप एवं कुत्ता काटने से बचाव का इंजेक्शन का भी इंतजाम करने का निर्देश दिया गया है।

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बताया कि बिहार सरकार राज्य के लोगों के लिए बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध है। जनता के स्वास्थ्य की सुरक्षा बिहार सरकार की प्राथमिकता में शामिल है। मौजूदा कोरोना संकट व भविष्य की चुनौतियों का सामना करने के लिए स्वास्थ्य विभाग कस्बों से लेकर राजधानी पटना तक पुख्ता तैयारी कर रहा है। एक ओर जहां जरूरी संसाधन व उपकरण जुटाये जा रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ मानव बल में भी बढ़ोतरी की लगातार प्रक्रिया जारी है। साथ ही विभाग द्वारा सभी सरकारी मेडिकल कॉलेज सह अस्पतालों को विभाग द्वारा गाइडलाइन भेज कर इस परिपेक्ष्य में तैयारी करने का आदेश मुख्यालय स्तर पर दिया गया गया है। जिससे बिहार के सुदूर इलाके के लोगों तक भी संकट के समय में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंच सकें।

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बताया कि कि भारत में मानसून ने दस्तक दे दी है। उम्मीद है कि अगले कुछ दिनों में मानसून बिहार में भी दस्तक दे देगा। इस वजह से स्वास्थ्य विभाग ऐसी परिस्थितियों से निपटने के लिए ना केवल अलर्ट है, बल्कि अभी से जरूरी तैयारियां करने में जुट गया है। विभाग की ओर से डायरिया एवं हैजा व चमकी बुखार पर प्राथमिक लगाम लगाने के लिए आंगनबाड़ी, आशा कार्यकर्ता को प्रशिक्षण देने के साथ जरूरी दवाओं की उपलब्घता भी स्वास्थ्य केंद्रों पर कराई जा रही है। बिहार में लगभग 10 हजार आंगनबाड़ी केंद्रों पर समाज कल्याण विभाग की ओर से उच्च पौष्टिकतायुक्त भोजन जीविका दीदी के माध्यम से वितरित करने की तैयारी की जा रही है। बिहार में पंचायत राज विभाग की ओर से एक करोड़ परिवार के बीच 6 करोड़ मास्क बांटे जा चुके हैं।

और पढ़ें
Next Story