Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शौचालय में जीवन जीने पर मजबूर हैं दादी-पोती, Video Viral होने पर लोगों ने बढ़ाए मदद के लिए हाथ

सीएम नीतीश कुमार के गृह जनपद नालंदा से मनवता को झकझौर कर रख देने वाली वीडियो वायरल हो रही है। जिसमें दिख रहा है कि एक बुजुर्ग महिला अपनी आठ साल की पोती के साथ शौचालय में जीवन जीने के लिए मजबूर है।

Grandmother and granddaughter are forced to live in toilet in CM Nitish Kumar home district Nalanda video viral Jaap helped Nalanda family
X

नालंदा वायरल तस्वीर

सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) के गृह जिले नालंदा की वायरल वीडियो (Viral video of Nalanda) ने बिहार (Bihar) में विकास कार्यों की पोल खोलकर रख दी है। नालंदा जिले में शौचालय में अपनी आठ वर्षीय पोती के साथ जीवन गुजार रही दादी की वीडियो (Video of grandma and granddaughter spending life in toilet) कई दिनों से वायरल हुई है। वायरल वीडियो (viral video) में साफ दिख रहा है कि शौचालय की सीट के सामने ही इन दादी-पोती का खाना पकता है। वहीं पर इनका राशन रखा हुआ है। सब्जी वहीं पर रखी हुई है। साथ ही वो वीडियो में अपने तंग हाल का भी जिक्र कर रही हैं।

बताया जा रहा है कि नालंदा में शौचालय में जीवन जीने पर मजबूर महिला का नाम कौशल्या देवी और उनकी पोती का नाम धर्मशीला कुमारी है। जानकारी के अनुसार दादी का पति, बहु और बेटा कोई भी अब इस दुनिया में नहीं रहा है, सिर्फ एक पोती है। कभी गांव वाले इन दोनों को कुछ दे देते हैं तो ये खा लेती हैं। नहीं तो दादी पोती भीख मांगकर कुछ लाती हैं।

जब ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो बिहार सरकार (Bihar Government) के मंत्री संजय कुमार झा ने इस पूरी दुखभरी कहानी को खारिज ही कर दिया। बावजूद मंत्री के बयान के बाद मीडियो में दादी-पोती की वीडियो वायरल की जा रही हैं। साथ ही दावे किए जा रहे हैं कि सच में दादी और पोती कष्ट में हैं। साथ ही दावा किया जा रहा है कि डीएम की ओर से जो राहत सामग्री पहुंचाई गई है वो उसी शौचालय में पहुंचाई गई है।

बिहार सरकार के मंत्री संजय कुमार झा ने ट्वीट कर इस संबंध में लिखा कि श्रीमती कौशल्या देवी की एक पोती के अलावा परिवार का कोई अन्य सदस्य साथ में नहीं रहता है। महिला को वृद्धावस्था पेंशन और PDS का अनाज मिलता है। उसे भोजन की समस्या नहीं है। जिला प्रशासन द्वारा महिला की झोपड़ी का जीर्णोद्धार और उससे लगती गली का पक्कीकरण करवाया जायेगा।

संजय कुमार झा ने यह भी लिखा कि सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल कर अफवाह फैलाई जा रही थी कि एक बुजुर्ग महिला अपनी पोती के साथ शौचालय में रह रही है! जिला पदाधिकारी, नालंदा द्वारा कराये गये स्थल निरीक्षण में पता चला है कि उक्त महिला श्रीमती कौशल्या देवी शौचालय के बगल में एक झोपड़ी में रहती है।

वहीं जानकारी मिल रही है कि वीडियो वायरल होने के बाद दादी-पोती की मदद करने के लिए विभिन्न लोग आगे आ रहे हैं। इसमें कई सियासी पार्टियां भी शामिल हैं। बताया जा रहा है कि देश-विदेश से कई लोगों ने उनके घर का पता और दादी का एकाउंट नंबर मांगा। फिर भी कई लोग लोग इस खबर को गलत करने लिए दिन रात लगे रहे। किसी के भलाई में दाग लग भी जाये तो कहिये दाग अच्छे है। जानकारी के भी है कि मामले का संज्ञान लेते हुए राष्ट्रीय बाल आयोग ने भी नालंदा की इस बच्ची के लिए मदद के लिए कदम उठाने जा रही है।

जाप ने दादी-पोती को सूखा राशन व आर्थिक मदद दी

वीडियो वायरल होने बाद जन अधिकार पार्टी (लो) की ओर से भी शुक्रवार को शौचालय में रहने पर मजबूर नालंदा जिले के करायपरशुराय प्रखण्ड में चिकसौरा थाना स्थित दिरीपर गांव निवासी दादी कौशल्या देवी और उनकी 8 साल की पोती धर्मशीला कुमारी के लिए एक साल का सूखा राशन और 10 हजार रुपये की आर्थिक मदद की गई।

जाप युवा परिषद के प्रदेश अध्यक्ष ने राजू दानवीर की अगुवाई में गए प्रतिनिधिमंडल ने गरीब परिवार से मुलाकात की। इस मौमे पर राजू दानवीर ने बताया कि वो जाप प्रमुख पप्पू यादव के निर्देश पर यहां इस परिवार के लिए मदद लेकर आये हैं। अभी हमरी ओर से उन्हें सूखा राशन व आर्थिक मदद दी गई है। साथ ही जाप पार्टी इस 8 साल की बच्ची की पढ़ाई से लेकर शादी तक के खर्च का निर्वहन करेगी।

शर्म से झुक गया नालंदा

राजू दानवीर ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा एक बुजुर्ग महिला अपनी 8 वर्षीय पोती के साथ बीते कई वर्षों से मुफलिसी का जीवन जीने पर विवश है। बच्ची के माता–पिता नहीं है व वो दोनों बदहाली की जिंदगी जीने को मजबूर हैं। आज हमने नालंदा के इस गांव में पहुंचकर गरीबी से पीड़ित इस परिवार की मदद की।

दादी पोती के लिए घर बनवाएगी जाप

दानवीर ने कहा कि नालंदा की पहचान दुनिया में है। लेकिन यहां के लोग ऐसी मुफलिसी में जीने पर आज भी मजबूर हैं। यह सीएम नीतीश कुमार का गृह जिला है और यहां के लोग शौचालय रहने के लिए मजबूर हैं। ये बेहद शर्मनाक बात है। इस वाक्ये से यहां जनप्रतिनिधियों के खिलाफ सवाल उठता है कि आखिर क्यों इस महिला को अब तक इंदिरा आवास तक नहीं सका। साथ ही दानवीर ने यह भी कहा कि पार्टी जल्द ही दादी-पोती के लिए घर का निर्माण भी कराएगी।

Next Story