Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अपनी आंखों के सामने धारा में बह गया चचरी पुल, लोगों ने नदी में कूदकर बचाई जान, देखें वीडियो

चक्रवाती तूफान यास से निपटने को लेकर बिहार सरकार की नाकामी सामने आई है। सीतामढ़ी में अपनी आंखों के सामने धारा के साथ चचरी पुल बह गया व पुल पर मौजूद लोगों ने नदी में कूदकर अपनी जान बचाई। इस पूरी घटना का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

government failure seen flood chachi bridge was washed away with stream people saved their lives by jumping in river Cyclone Yass news
X

सीतामढ़ी वायरल तस्वीर

बिहार (Bihar) के विभिन्न जिलों में चक्रवात तूफान यास के प्रभाव की वजह से पिछले 2 दिनों से लगातार बारिश (Rain) हो रही है। बारिश की वजह से प्रदेश में विभिन्न हादसे भी हो रहे हैं। इस बीच चक्रवात तूफान यास (Cyclone yaas) से निपटने को लेकर बिहार सरकार की लापरवाही (Bihar government negligence) भी सामने आई है।

ऐसा ही एक वाकया सीतामढ़ी (Sitamarhi) से भी सामने आया है। सीतामढ़ी में भी तूफान की वजह से पिछले 2 दिनों से बारिश हो रही है। सीतामढ़ी जिले के कई क्षेत्रों में पानी भर गया है। नदियों में अचानक जल स्तर बढ़ गया है। जिसके दुष्परिणाम नजर आने लगे हैं। जानकारी के अनुसार जिले में बेलसंड अनुमंडल क्षेत्र के चंदौली में बागमती नदी पर बने चचरी पुल (Sitamarhi Chachari Bridge) से विभिन्न लोग नदी पार कर रहे थे। उसी वक्त अचानक यह पुल टूट गया। पुल पर दर्जन भर से ज्यादा लोग इधर से उधर के लिए जा रहे थे। स्थानीय लोगों द्वारा सचेत कर देने के बाद भी ये नदी पार करना चाहते थे। अच्छी बात ये रही कि इस हादसे में किसी की जानमाल को नुकसान नहीं पहुंचा। वैसे चचरी पुल टूटने के बाद एक व्यक्ति नदी में डूब रहा था। जिसको नदी के किनारे खड़े लोगों ने सुरक्षित बचा लिया।

चचरी पुल के टूटने का एक दिल दहला देने वाला वीडियो भी सामने आया है। जिसमें दिखाई दे रहा है कि कैसे लोग पुल को पार कर रहे हैं। अचानक नदी की तेज धारा के साथ ही पुल का एक किनारा टूट कर बहने लगता है। उस वक्त पुल पर मौजूद लोग किस तरह से भागकर और नदी में कूदकर अपनी जान बचाते हैं। वहीं नदी किनारे पर खड़े ग्रामीण भी इन लोगों से चिल्ला-चिल्लाकर अपना बचाव करने के तरीके खोने की बात कर रहे हैं। साथ ही जरूरी सलाह भी दे रहे हैं।

एक स्थानीय ग्रामीण ने बताया कि आपसी जनसहयोग से यह चचरी पुल प्रति साल बनाया जाता है। बाढ़ आने पर हर वर्ष ये टूट जाता है। इस पुल पर शनिवार को सुबह से ही आवागमन बंद कर दिया गया था। पर कुछ लोग बावजूद इसके नदी पार करने का प्रयास कर रहे थे। उसी दौरान ये हादसा हो गया। बेलसंड के चंदौली में बीती काफी सालों पुल का निर्माण हो रहा है। जब पानी रहता है तो लोग नाव की मदद से इस नदी को पार करते है। वहीं पानी कम होने पर लोग चचरी पुल का निर्माण कर आवागमन पूर्ण करते हैं।

विभिन्न गांवों का संपर्क पथ टूट गया

चचरी पुल के टूटने से प्रखंड मुख्यालय से दर्जनों गांवों का संपर्क टूट गया है। स्थानीय डुमरा, दरियापुर नुनौरा आदि गांव से प्रखंड मुख्यालय जाने का एकमात्र चचरी पुल की सहारा था। वैसे सरकार की तरफ से बेलसंड-मीनापुर पथ पर आरसीसी (RCC) पुल का निर्माण कराया जा रहा है। पर निर्माण कार्य कछुआ चाल से हो रहा है। वहीं चचरी पुल के टूटने से स्थानीय लोग काफी परेशानी नजर आ रहे हैं। इन लोगों का कहना है कि सरकार द्वारा पुल का निर्माण कब तक किया जाएगा। इसको लेकर कोई पता नहीं है।

Next Story