Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पटना एम्स में भर्ती नहीं होंगे कर्मचारियों के परिजन, हड़ताल पर गए कर्मी तो राबड़ी बोली नहीं मिला था महीनों से वेतन

एम्स प्रशासन ने कर्मचारियों के कोरोनो संक्रमित को भी पटना एम्स में भर्ती नहीं करने का आदेश दिया है। जिससे गुस्साए पटना एम्स के नर्स और सफाई कर्मचारी शनिवार की सुबह से हड़ताल पर चले गए हैं। वहीं राजद नेता राबड़ी देवी ने महीनों से कर्मचारियों को वेतन नहीं मिलने को लेकर सीएम नीतीश कुमार पर महीनों से छिपे रहने का आरोप लगाया है।

family members of employees will not be admitted in Patna aiims, workers who went on strike Rabri bid was not received, salary for months
X
पटना एम्स

शनिवार की सुबह से ही पटना एम्स की नर्स, अन्य कर्मचारी और सफाई कर्मचारी हड़ताल पर चले गये। वजह दो माह से इन लोगों को वेतन नहीं मिला है। फिर भी ये लोग काम कर रहे थे। शनिवार को गुस्सा इसलिए भड़का कि एम्स प्रशासन ने एक आदेश जारी किया है जिसमें एम्स के कर्मचारी और उसके परिजन कोरोना पॉजिटिव होते हैं तो उन्हें भर्ती नहीं किया जाएगा इस आदेश से एम्स के कर्मचारी खासे गुस्से में है ।

दूसरी ओर नीतीश सरकार निशाना साधते हुए पूर्व सीएम एवं राजद की वरिष्ठ नेता राबड़ी देवी ने शनिवार को ट्वीट कर कहा कि महीनों से वेतन नहीं मिलने के कारण पटना एम्स के सफाई कर्मचारी हड़ताल पर चले गए। यही नहीं एम्स में आम और नए मरीजों को भर्ती किये जाने पर रोक लगा दी गई है। राबड़ी देवी ने सीएम नीतीश कुमार पर चार महीनों से स्वयं आवास से नहीं निकलने का आरोप लगाया है। इसके बाद नीतीश सरकार को कोसते हुए कहा कि विभिन्न मज़दूर परेशानी में घर से आकर वापस चले भी गए, लेकिन मुख्यमंत्री को क्या मतलब?

इस बीच नीतीश सरकार पटना शहर में 25 जगहों पर आज से टेस्ट शुरू करने जा रही है जहां कोरोना का लक्षण वाले मरीज अपना टेस्ट करा सकते हैं। इसकी सूची राज्य सरकार ने जारी कर दी है। इसी बीच पटना को लेकर जो रिपोर्ट आ रही है हर घंटे 8 व्यक्ति कोरोना संक्रमित हो रहे हैं ।

Next Story