Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मछुआरों ने मछली पकड़ने के लिए फेंका जाल तो फंस गया ये खतरनाक जानवर, सभी रह गए दंग

बिहार के कटिहार में गंगा नदी में मछली पकड़ने के दौरान एक हैरान कर देने वाली घटना घट गई। यहां पर मछुआरों ने मछली पकड़ने के लिए गंगा नदी में जाल फेंका था। लेकिन उसमें कोई मछली तो फंसी नहीं लेकिन एक खतरनाक जानवर जरूर फंस गया। अब इस वाक्ये की पूरे क्षेत्र में चर्चाएं हो रही हैं।

crocodile in fishermens net while fishing in ganga river katihar Bihar amazing news in Hindi
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

बिहार (Bihar) के कटिहार में गंगा नदी (Ganges River in Katihar) में मछली पकड़ने के दौरान एक अजब-गजब घटना (Strange event) घट गई। जिसकी पूरे कटिहार (Katihar) और आसपास के क्षेत्रों में चर्चा हो रही है। आपने नदियों और तालाबों में मछुआरों के जालों (Fishermen net) में बड़ी मछली (Fish) या कोई कीमती चीज फंसने की खबरें तो अक्सर सुनी होगीं। वहीं कटिहार में गंगा नदी में मछली मारने के क्रम में जो हुआ, उसको सुनकर हर कोई हैरान है।

जानकारी के अनुसार कटिहार में गंगा नदी में कुछ मछुआरे मछली पकड़ने के लिए आए हुए थे। मछुआरों ने गंगा नदी में जाल फेंका। जाल फेंकने के बाद मछुआरों को अहसास हुआ कि कोई बड़ी मछली फंस गई है। लेकिन जाल को जब मछुआरों ने पानी से बाहर निकाला तो सभी की आंखें फटी की फटी रह गईं। मछुआरे इसको देखकर चकित हो गए कि जाल में मछली नहीं है, बल्कि एक खतरनाक जानवर मगरमच्छ (crocodile) है।

कटिहार जिले के बरारी प्रखंड के बखिया बिशनपुर गंगा नदी में मछली पकड़ने के दौरान मछुआरों के जाल में फंसे मगरमच्छ की बातें चारों ओर हो रही हैं। वैसे जो मगरमच्छ (mugger) मछुआरों के जाल में फंसा था वो बहुत बड़ा नहीं था। पर गंगा नदी के किनारे पर इसको देखने के लिए क्या बच्चे, क्या बूढ़े सभी जमा हो गए। जाल में फंसा मगरमच्छ करीब 4-5 फीट लंबा था। मछुआरों के अनुसार यह जवान ना होकर, मगरमच्छ का बच्चा था। जो मछली पकड़ने वाले जाल में आसानी से फंस गया।

गंगा नदी में अक्सर मछली पकड़ने वाले मछुआरे पंकज का कहना है कि वो रोजाना की तरह उस वक्त भी, उसके साथी गंगा नदी में जाल की मदद से मछली पकड़ रहे थे। उसी वक्त अचानक सभी लोगों को महसूस हुआ कि जाल में कोई भारी-भरकम मछली अटक गई है। इसके बाद उन्होंने जाल को पानी से बाहर निकाला तो देखा कि यह मछली नहीं, मगरमच्छ है। पंकज ने कहा कि शुरू में तो सभी लोग इस मगरमच्छ को देखकर भयभीत हो गए थे। पर बाद में साहस दिखाते हुए इसको पानी से बाहर निकाला गया। जाल में मगरमच्छ फंस जाने की खबर देखते ही देखते आसपास के क्षेत्रों में आग की तरह फैल गई और लोग इस मखरमच्छ को देखने के लिए नदी पर जुटने लगे।

मछुआरे के अनुसार इस मगरमच्छ को रस्सी से बांधकर नदी के किनारे तक लाया गया। नदी के बहार इसको कुछ समय के लिए रखा गया। इसके बाद फिर से इस मगरमच्छ के बच्चे को गंगा नदी में ही छोड़ दिया गया। इस मगरमच्छ का वजन करीब 25 किलो के करीब था।

Next Story