Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना का भय : लालू यादव को रिम्स निदेशक के 'केली बंगला' में शिफ्ट कर दिया गया

बिहार के पूर्व सीएम, राजद प्रमुख व चारा घोटाले में सजायाफ्ता लालू यादव को बुधवार को रिम्स निदेशक के ‘केली बंगला’ में शिफ्ट कर दिया गया है। रिम्स के पेइंग वार्ड में इलाजरत लालू यादव के कई सेवक कोरोना संक्रमित पाये गये थे। जिससे लालू को कोरोना वायरस होने का भय बढ़ गया था।

coronas fear lalu yadav shifted to rims directors kelly bungalow
X
राजद प्रमुख लालू यादव

बिहार के पूर्व सीएम, राजद प्रमुख व चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव को पिछले सप्ताह से ही रिम्स के 'केली बंगला' में शिफ्ट किये जाने की चर्चायें चल रही थी। क्योंकि बीते दिनों लालू यादव के तीन सेवकों को कोरोना संक्रमण हो गया था। जिससे लालू को कोरोना संक्रमण होने का खतरा बढ़ गया था। वहीं रांची रिम्स की भी बेचैनी बढ़ गई थी। इसी को लेकर रांची के सिटी एसपी सौरभ कुमार ने तीन दिन पहले 'केली बंगला' का निरीक्षण कर सुरक्षा-व्यवस्था का जायजा लिया था। सौरभ ने बताया था कि राजद प्रमुख लालू यादव का इलाज कर रहे डॉक्टर उमेश कुमार ने लालू को रिम्स के पेइंग वार्ड से दूसरी जगह शिफ्ट करने की सलाह दी थी।

रिम्स प्रबंधन ने डॉक्टर उमेश की सलाह पर राजद प्रमुख लालू यादव को दूसरी जगह शिफ्ट करने का एक प्रस्ताव जेल प्रशासन को भेजा था। जेल प्रशासन से लालू यादव को दूसरी जगह शिफ्ट करने की अनुमति मांगी गई। जेल प्रशासन ने अनुमति दे दी। फिर केली बंगला की साफ-सफाई कराई गई। साफ-सफाई के बाद जेल प्रशासन से अनुमति मिलने के बाद लालू यादव को केली बंगला में शिफ्ट कर दिया गया। जानकारी है कि रिम्स के पूर्व निदेशक डॉक्टर डीके सिंह के जाने के बाद से ही केली बंगला खाली था। इसलिए लालू को केली बंगला में शिफ्ट करने का निर्णय लिया गया।

जानकारी है कि चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू यादव पेइंग वार्ड में इलाज के लिये भर्ती थे। जानकारी है कि पेइंग वार्ड के पहले तल को छोड़कर सभी तल कोरोना वार्ड बना दिये गये है। जहां लालू टहलते हैं और आसपास भी कोरोना मरीज ही हैं। इसी वजह से राजद प्रमुख लालू को कोरोना पॉजिटिव होने का खतरा बढ़ गया था। वहीं लालू यादव के तीन सेवक भी बीते दिनों कोरोना पॉजिटिव पाये गये थे। इससे रांची रिम्स बेचैन था। राजद प्रमुख लालू यादव की दो बार कोरोना संबंधी जांच कराई गई। दोनों ही बार उनकी जांच रिपोर्ट नकारात्मक आई। तब जाकर रांची रिम्स प्रशासन ने राहत की सांस ली।

Next Story